रविवार, 14 अगस्त 2011

स्वतंत्रता दिवस

India Flag Animated gifs15th August Independence Day and Graphics
स्वाधीनता दिवस
राष्ट्रनायकों का करें हम सब मिल अभिनंदन
लहरा के भारतध्वज गाएँ मिल कर जयमंगल
भारत माता का दिव्य मुख गर्व से है चमक रहा
पाए हैं सच्चे राष्ट्र सपूत मुक्ति दिवस है मन रहा
लाल किला भी गौरव से पुलकित हुआ जाता है
चौंसठ वर्षों से तिरंगा उसपर ही फहराया जाता है|
                -----0-----

मैं जब भी स्वतंत्रता आंदोलन की कहानियाँ पढ़ती हूँ तो
जिनकी कहानियाँ मुझे सबसे ज्यादा प्रभावित करती हैं 
उन्हें मैंने चन्द पंक्तियों में उतारने की कोशिश की है|

महारानी लक्ष्मीबाई
भारत भूमि को गौरवान्वित करने
आई थी एक वीरांगना
जन्म ले धन्य किया मनु ने
मोरोपन्त-भागीरथी का अँगना
माता होती भविष्य निर्माता
भागीरथी ने यह सिद्ध किया
स्वदेश प्रेम की गहरी भावना
मनु के हृदय में भर दिया
तीरंदाजी घुड़सवारी ही
उसके प्रिय खेल थे
शस्त्र विद्या में निपुण थी
शास्त्र में भी बनी निपुण
मैं अपनी झाँसी अंग्रेजों को नहीं दूँगी
लक्ष्मीबाई के इस एलान ने
ब्रिटिश शासन को हिला दिया
भारत के जन-जन मन-मन में
स्व का दीप झिलमिला गया|
----०----

भगतसिंह


आज़ाद भारत की कहानी
लिखी जिसने देकर कुर्बानी
परतंत्रता की बेड़ी को तोड़
किया जनमानस को उद्वेलित
वह शूरवीर बलिदानी था
नाम था उसका भगतसिंह
साथ सुखदेव राजगुरु के
ब्रिटिश शासन को ललकार दिया
हँसते हँसते फाँसी का फंदा
गले में वरमाला सा डाल लिया
----0----
चंद्रशेखर आजाद

थे वह भारत माँ के पुत्र स्वाभिमानी
व्यक्तित्व और प्रतिज्ञा के धनी
थे अपनी धुन के पक्के
उनकी निडरता ने किया
अंग्रेजों के दाँत खट्टे
देशभक्तों के हृदय सम्राट
रूप दिखाया अपना विराट
भारत की आजादी को
नाम अपना लिया आजाद
पिता का नाम स्वतंत्रतारखा
जेलखाना को बता दिया बसेरा
क्रांतिकारी उनके विचार थे
ले आए भारत में नया सवेरा
----0----
सुभाष चन्द्र बोस

 

सुभाष बोस की कीर्ति-कौमुदी
सुरभित हो उठी दिग्दिगन्त
समग्र जीवन किया न्योछावर
झुकाया अंग्रेजों को जीवन पर्यन्त
जापान में, आजाद हिन्द फौज के
बन गए वह सेनापति
देख बोस की संगठन-शक्ति
विश्व की, दाँतों तले उँगली दबी
फौज को
चार भागों में किया विभाजित
नाम भी रखा प्रेरणार्थक
गाँधी-ब्रिगेड,  नेहरू-ब्रिगेड
सुभाष-ब्रिगेड, आजाद-ब्रिगेड
महिलाओं की अलग फौज थी
नाम झाँसी रानी रेजीमेन्ट
बच्चों की भी टुकड़ी थी
धमाल मचाया जमकर
''तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूँगा''
सुभाष के इस एलान से
देशभक्तों में जोश नया ही भर गया|
                                    ऋता शेखर मधु
----0-------------------------------0----





8 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. kya baat hai shandar prastuti .bahut khoob likha hai
    bahut bahut badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  3. ....वाह बेहतरीन !!!!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    जय हिंद जय भारत

    उत्तर देंहटाएं
  4. ..देशप्रेम से सजी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत रचना और सुन्दर संयोजन ॰ हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी प्रेरणापूर्ण अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार ही नहीं
    हृदय से नमन.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ! क़ाबिले-तारीफ़...। इन महान शहीदों को याद करने के लिए मेरी बधाई...।
    प्रियंका गुप्ता

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!