शनिवार, 24 सितंबर 2011

''डॉटर्स डे'' विशेष कविता



बिटिया मेरी
ओ लाडली बिटिया मेरी
तुम हो, मेरे जीवन की खुशी
बड़ी प्यारी लगती है
तुम्हारी भोली निश्छल हँसी
ईश्वर ने वरदान दिया
तुम आई दुनिया में मेरी
जी चाहता है दुनिया में तेरी
खुशियाँ ही खुशियाँ मैं भर दूँ
तमन्नाएँ पूरी कर होठों पर तेरे
मुस्कान ही मुस्कान मैं मढ़ दूँ
सारे दुख हर, झोली में तेरी
कलियाँ ही कलियाँ मैं धर दूँ
तेरे भविष्य की चादर में
सितारे ही सितारे मैं जड़ दूँ
हजारों दीप रौशन कर, राह तेरा
उजालों से मैं जगमग कर दूँ
तेरे मीठे मीठे सपनों में
परियाँ ही परियाँ मैं बुला दूँ
तेरे पथ के सारे काँटे चुन
फूल ही फूल मैं बिछा दूँ
कुकू की मीठी मधुर गुंजन
श्रुति बना हवा में मैं भर दूँ
तुम्हारी खुशी सब चाहें
श्रे‌य इसका मैं सब को दूँ
अमित स्नेह-आशीष का हाथ
सर पर तुम्हारे मैं धर दूँ|

है ईश्वर से दुआ ये मेरी
पूरी हों तुम्हारी आकांक्षाएँ
दुख-निराशा की परछाई भी
कभी तुम्हारे न पास आए
मधु सी मिठास इस कदर भरे
कड़वाहट जगह ही न बना पाए
मैं ईश्वर नहीं चमत्कारी भी नहीं
फिर भी जी चाहे, भाग्य तुम्हारा
सुनहरे कलम से मैं लिख दूँ|

ऋता शेखर मधु


14 टिप्‍पणियां:

  1. मैं ईश्वर नहीं चमत्कारी भी नहीं
    फिर भी जी चाहे, भाग्य तुम्हारा
    सुनहरे कलम से मैं लिख दूँ|

    भावमय करते शब्‍दों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही प्रभावी प्रस्तुति
    .....सादर अभिनन्दन

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुकू की मीठी मधुर गुंजन
    श्रुति बना हवा में मैं भर दूँ
    तुम्हारी खुशी सब चाहें
    श्रे‌य इसका मैं सब को दूँ
    अमित स्नेह-आशीष का हाथ
    सर पर तुम्हारे मैं धर दूँ|
    आकांक्षाओं की मिठास से भरा यह कविता दिल को छूने
    वाली हैं|
    “HAPPY DAUGHTERS DAY”

    उत्तर देंहटाएं
  5. मधुरता से ओतप्रोत है आपकी यह कविता

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरी भी ढेरों शुभकामनायें आपकी बेटी को जिसे आपकी ये पूरी कविता समर्पित लग रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोहे लिखने के लिए आपको इस पोस्ट से सहायता मिलेगी।
    --
    छन्दों से सम्बन्धित एक पोस्ट यहाँ भी है।
    --
    छन्दों से सम्बन्धित एक पोस्ट यहाँ भी है।
    --
    छन्दों से सम्बन्धित एक और पोस्ट यहाँ भी है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Atee uttam.....
    Hindi bhasha ke sahaj prayog se aapne hamare mann ko jeeta.......aise hi likhte rahiye oo rita...

    wah wah

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्साहवर्धन के लिए आप सबों को मेरा हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं




  10. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने! हर एक शब्द लाजवाब है! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!