गुरुवार, 24 नवंबर 2011

४.श्रीराम की बाल लीला-ऋता की कविता में

आज मैं श्रीराम कथा की चौथी कविता लेकर प्रस्तुत हूँ|आपकी छोटी से छोटी प्रतिक्रिया भी मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हे|

श्रीराम की बाललीला


जगत के स्वामी  अन्तर्यामी  अनुग्रहदानी रघुनाथ|
अवतार लिए रघुकुल में हुलस पड़े पिता और मात||

कौशल्या दशरथ कर जोड़े बोले, अहोभाग्य हमारे|
अपने  वचन  की  खातिर प्रभु, हमारे घर पधारे||

जनक जननी जन के स्नेहवश,बाललीला करते थे श्रीराम|
देख-देख पुलकित होते अवध-जन, छोड़  के  सब  काम||

वात्सल्य प्रेम में आनन्दित होती थीं कौशल्या माता|
कभी नहीं सोची थीं, यूँ गोद में खेलेगे जग-विधाता||

कभी पालने में कभी गोद में खिलातीं|
कभी नजर भर-भर लला को निहारतीं||

दिवस  रात्रि  पहर का, रहा न भान और ज्ञान|
बालक राम की लीला का ही, करती रहतीं गान||
 
एक दिवस माता ने करवाया, राम  को  स्नान|
लिटा पालने में रसोई गई, बनाना था पकवान||

इष्ट-देव को भोग लगा किया हृदय से ध्यान|
लौटीं  वापस  पाकगृह  में  रह  गई हैरान||

बैठ रसोई में आराम से, खाते थे श्रीराम|
दौड़  पालने  में  देखा, सो रहे थे राम||

पुनः  रसोईघर में देखा, विराजमान  थे  राम|
हृदय काँप उठा उनका,रहा न धैर्य  का  भान|
पहेली समझ न पाई, कैसे दोनों जगह हैं राम||

अपना मतिभ्रम मान के,कौशल्या हो गई आकुल|
मुस्कुरा दिए श्रीराम, देखा जो माता को व्याकुल||

श्रीराम  ने दिखलाया, अनूठा विराट रूप अपना|
आश्चर्यचकित देखें कौशल्या, सत्य है या सपना||

प्रत्येक  रोम में थे शोभित,  कोटि-कोटि  ब्रह्मांड|
सूर्य चन्द्र पर्वत समुद्र नदी वन पृथ्वी शंकर ब्रह्मा||

थे वहाँ  काल  कर्म, गुण ज्ञान स्वभाव|
कल्पना से भी परे,अनेक प्रकार के भाव||

भयभीत कर जोड़े खड़ी थीं,  बलवती माया|
माया से मुक्त कराने वाली, भक्ति की काया||

तन मन से पुलकित हो, माता ने शीश नवाया|

ऐसी लीला से आप मुझे,फिर कभी न सताना|
हाथ  जोड़ विनती करूँ, बाल-रूप  में  रहना||

विस्मित माता को रामलला ने बार-बार समझाया|
जगतपिता  श्रीराम  ने फिर से, बाल रूप बनाया||

समय के साथ बड़े हुए, अपार लीला करते सब भाई
चूड़ाकर्म संस्कार में, ब्राह्मणों  ने  ढेरों  दक्षिणा पाई||

ठुमक-ठुमक चलने लगे, माता से पकड़े नहीं जाते|
धूल-धुसरित  हो वे जब, घर  को  वापस  आते||

दशरथ हँस-हँस उनको, गोद  में  बिठाते|
बड़े स्नेह से नन्हे को, दही भात खिलाते||

निगाह चूके, किलकारी  मार श्रीराम भाग जाते|
सरस्वती शेष महेश, मनभावन बालचरित गाते||

-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-
ऋता शेखर मधु

15 टिप्‍पणियां:

  1. आनंद आ गया राम ही राम है हो गया सब जगह ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही आनन्ददायी प्रसंग है आज सुबह ही पढा था और अब यहाँ भी पढ लिया।

    उत्तर देंहटाएं





  3. ऋता शेखर ‘मधु’ जी
    जय श्री राम !

    आज तो आपके यहां आनंद-वर्षण हो रहा है …
    सरस्वती शेष महेश, मनभावन बालचरित गाते
    … और आपने भी रामजी की बाल लीला का चित्रण बहुत मनोयोग से किया है … साधुवाद !

    ऐसी रचनाओं में छंद की एकरूपता और परिपक्वता का महत्व बढ़ जाता है …

    सृजन जारी रहना चाहिए … श्रेष्ठता-विशिष्टता स्वतः आने लगती हैं …

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय दिगम्बर जी, वंदना जी,अनुपमाजी,संगीता जी, विनीत जी एवं राजेंन्द्र जी,
    उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक आभार|
    सादर
    ऋता शेखर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया ! शानदार प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीया मधु जी,

    श्री राम की बाल लीला का चित्रण पढ़ कर मन आनंद से भर गया .
    आपने माँ कौशल्या के साथ बाल लीला का शब्दों से जो चित्र खींचा है ,उसे पढ़ कर आनंद के आंसू झरने लगे.
    धन्य है आपकी कलम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्तम दृष्य प्रस्तुत किया...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति ऋता जी.....बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय रश्मि जी,बबली जी,विशाल जी,समीर जी एवं मंजु जी,
    उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक आभार|
    सादर
    ऋता शेखर

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्री राम जी की बाल्य-लीला को
    बहुत ही अनुपम ढंग से प्रस्तुत किया है आपने
    शिल्प बहुत प्रभाव शाली है
    बधाई स्वीकारें .

    उत्तर देंहटाएं
  11. ओह! बहुत सुन्दर राम की बाल लीला का वर्णन किया है आपने,ऋता जी.आपकी पावन लेखनी को नमन.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!