शुक्रवार, 27 जनवरी 2012

उर में हमारे तुम पधारो, पंचमी त्योहार है - हरिगीतिका छंद

मेरी प्रथम हरिगीतिका पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें|
सरस्वती वंदनाहरिगीतिका छंद

गूगल से साभार

यह शीश कदमों पर नवा कर, कर रहे हम वन्दना |
माँ शारदे, कर दो कृपा तुम, है विद्या  की  कामना||

संतान  हम  तेरे  अज्ञानी, ज्ञान  की  मनुहार है |
उर में हमारे तुम पधारो,  पंचमी  त्यौहार  है |१|


धारण मधुर वीणा किया है,  दे रही सरगम हमें|
संगीत से ही तुम पढ़ाती, पाठ  एकता  का हमें||

बस शांति हो संदेश अपना, दो  हमें यह भावना|
भारत वतन ऐसा बने, हो, सब जगह सद्‌भावना|२|


पद्‌मासिनी होकर कही तुम, हो सुवासित यह जहाँ|
रहती सदा ही हंस पर तुम, शांति छा जाती वहाँ||

माता करो उपकार हमपर, कर रहे  हम  साधना|
साकार हों सपने सभी के,  है  यही  आराधना|३|


इस ज़िन्दगी की राह भीषण, पाहनों से सामना|
ना ठोकरें खा के गिरें माँ, ज्ञान  दे,  संभालना||

तेरे बिना कुछ भी नहीं हम, सब जगह अवरोध है|
हों ज्ञान-रथ के सारथी हम, यह सरल अनुरोध है|४|


तूफ़ान में पर्वत बनें हम, शक्ति  इतनी  दो  हमें|
तेरे चरण- सेवी रहें हम,  भक्ति भी दे  दो  हमें||

करते तुझे शत-शत नमन हम, हो न तम का सामना|  
आसक्त तुझमें ही रहें हम,  बस  यही  है  कामना|५|

ऋता शेखर 'मधु'

15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह मधु जी बहुत सुन्दर आराधना की है आनन्द आ गया…………
    सरस्वती माँ को सादर वन्दन अभिनन्दन
    करो माँ हर ह्र्दय मे प्रेम का मधुर स्पन्दन

    उत्तर देंहटाएं
  2. ाअपकी इस वन्दना ने मन मोह लिया । बहुत -बहौत साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ सरस्वती कि मनभावन वंदना .. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. माँ सरस्वती के चरणों में मेरा भी नमन...बहुत सुन्दर रचना...मेरी बधाई...।
    प्रियंका

    उत्तर देंहटाएं
  5. माता करो उपकार हमपर, कर रहे हम साधना|
    साकार हों सपने सभी के, है यही आराधना|३|
    ..........और क्या चाहें हम , इतनी है अपनी कामना

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरिगीतिका छंद में रचित इस सरस्वती वंदना ने सचमुच मन को मोह लिया|आपने वीणापाणि की बहुत हि सुन्दर आराधना की है| वंदना में आपने जो भी कामना की है ,समष्टि के कल्याण के लिए है |
    मुझे याद है कि सरस्वती माँ की वन्दना कि कविता से आपने यह ब्लॉग शुभआरम्भ किया था|
    माँ शारदे की कृपा आपकी लेखनी पर बनी रहे|
    बधाई स्वीकार करें|

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर सरस्वती वंदना .. माँ शारदे के आशीर्वाद के बिना तो कुछ भी न हो .

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत मनमोहक और भक्तिपूर्ण वन्दना...बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से EK BLOG SABKA

    आशा है आपको हमारा प्रयास पसन्द आएगा!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हरिगीतिका छंद!!
    ये पहली बार सुना है मैंने...
    खैर, बड़ी खूबसूरत लगी कविता और आपकी पहली वाली हरिगीतिका छंद भी पसंद आई :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. मन और नयन दोनों ही पवित्र हो गये, पावन वंदना, वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण वंदना! बेहद पसंद आया!

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस ख़ूबसूरत प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" पर भी पधारने का कष्ट करें, आभारी होऊंगा.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!