बुधवार, 1 फ़रवरी 2012

क्यारी-क्यारी लहराई, डाली-डाली मुसकाई-घनाक्षरी छंद




क्यारी-क्यारी लहराई, डाली-डाली मुसकाई,
ऋतुराज के आने से, छटा बसंती छाई|

सुमन-सितारे टँके, प्रकृति-परिधान में,
किसलय कोंपलों ने, ले ली है अँगड़ाई|

चहचह से चहकी, उषा मधुरहासिनी,
मंद-मंद बयार से, कलियाँ लहराईं|

पुष्पराग उड़ चला, चँदोबा बन के टँगा,
गेहूँ के गोरे गालों पे, तितली मँडराई|१|



मतवाले भौंरे डोलें, कुसुमों के अधरों पे,
पुखराज-सी बगिया, झूम के इठलाई|

पीले गुलाल के संग, निखरे गेंदा के रंग,
वागीशा की वीणा गूँजी, रस-रागिनी गाई|

जनक-वाटिका सोहे, राम जानकी से मिले,
इस मधु-मौसम में, सीता थी हरषाई|

ऋतूनां कुसुमाकरः,गीता-वाणी श्रीकृष्ण की
प्रभु ने पार्थ को अपनी महता बताई|२|

ऋता शेखर मधु
ऋतूनां कुसुमाकरः(ऋतुओं में मैं बसंत हूँ|)

8 टिप्‍पणियां:

  1. पुष्पराग उड़ चला, चँदोबा बन के टँगा,
    गेहूँ के गोरे गालों पे, तितली मँडराई|१|

    ....बहुत खूब! बहुत मनभावन प्रकृति चित्रण...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके उत्‍कृष्‍ठ लेखन का आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जनक-वाटिका सोहे, राम जानकी से मिले,
    इस मधु-मौसम में, सीता थी हरषाई|...सुभग सुहाना दृश्य आँखों में घूम गया

    उत्तर देंहटाएं
  4. मतवाले भौंरे डोलें, कुसुमों के अधरों पे,
    पुखराज-सी बगिया, झूम के इठलाई|

    पीले गुलाल के संग, निखरे गेंदा के रंग,
    वागीशा की वीणा गूँजी, रस-रागिनी गाई|

    अद्भुत वर्णन...शब्द शब्द में बसंत भर दिया है आपने...कमाल की रचना.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन बासंती रचना,लाजबाब प्रस्तुतीकरण..

    NEW POST...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    उत्तर देंहटाएं
  6. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब! बहुत मनभावन प्रकृति चित्रण.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर..रंगीला वर्णन..

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!