शनिवार, 10 मार्च 2012

नारी,स्वयंसिद्धा बनो





ओ धरा-सी वामा तू सुन,
गीले नयनों को नियति न मान
अपने आँसुओं का कर ले निदान
स्वयं को साबित करने की ठान
चल पड़ी तो राह होगा आसान|

तेरा  यह  क्रंदन  है  व्यर्थ
जीती  है  तू  सबके  तदर्थ
तू खुद को बना इतना समर्थ
तेरे  जीने का भी  हो  अर्थ|

जिस सृष्टि का तूने किया निर्माण
उसी सृष्टि में मत होने दो अपना अपमान|
तेरे भी अधिकार हैं सबके समान
नारी तू महान थी, महान है, रहेगी महान|

आज की नारी

नारी व्यथा की बातें हो गईं पुरानी
नए युग में बदल रही  है  कहानी|
बनती हैं अब वह घर का आधार
पढ़ें-लिखें करें पुरानी प्रथा निराधार|
बेटियाँ होती हैं अब घर की शान
उन्हें भी पुत्र समान मिलता है मान|
किशोरियों की होती है नई नई आशा
उनके गुणों को भी जाता है तराशा|
प्रमाण पत्रों पर होता माता का भी नाम
बदले युग में है यह नारी का सम्मान|
नारी शिक्षा पर है अब सभी का ध्यान
सरकारों के चलते हैं नए नए अभियान|
अब नारी के होंठ हँसते हैं
खुशी  से  पैर थिरकते हैं
सपने विस्तृत गगन में उड़ते हैं
इच्छाएँ पसन्द की राह चुनते हैं|
नारियों के मुख पर नहीं छाई है वीरानी
वक्त बदल गया,अब बदल गई है कहानी|

              ऋता शेखरमधु



11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर ऋता जी....
    सार्थक रचना के लिए बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाल-फिलहाल 'नारी-दिवस' के कारण कई कवितायें मिली पढने को जिसमें सिर्फ नारी की व्यथा ही वर्णित थी. मन में अक्सर ख़याल आ रहा था कि ऐसा नहीं है, बदलाव आ रहा है, बहुत हद तक परिदृश्य अलग है अब.
    आपकी सकारात्मक पंक्तियों से तसल्ली मिली.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर सार्थक रचना, बेहतरीन प्रस्तुति.......

    MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...:बसंती रंग छा गया,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी को स्वयंसिद्धा ही होना होगा ... दोनों रचनाएँ सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेटियाँ होती हैं अब घर की शान
    उन्हें भी पुत्र समान मिलता है मान

    बहुत सुंदर और प्रेरक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर, सामयिक और सार्थक पोस्ट, आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये बदली हुयी कहानी भारत के कोने कोने में पहुंचे तो सही मायने में बदलाव आ सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!