बुधवार, 4 जुलाई 2012

नम्बर का चक्कर




नम्बर का चक्कर

जन्म  तो  ले  लिया, पहचान मिली नम्बर से
नाम अभी मिला नहीं, जाने गए शिशु-नम्बर से|
यदि प्रथम सन्तान है तो कहे गए पहली
फिर  दूसरी,  तीसरी, चौथी  या  पाँचवीं|

हम  नाम  नहीं  एक नम्बर हैं
स्कूल  में  रॉल नम्बर हैं
बोर्ड  में  रजिस्ट्रेशन नम्बर  हैं
डाक्टर के पेशेंट नम्बर हैं
हास्पीटल  में  बेड का नम्बर हैं
दूर में  मोबाइल नम्बर हैं
आफिस  में  एम्पलाई नम्बर हैं
गैरेज में  गाड़ी नम्बर हैं
पोस्टऑफिस में मकान नम्बर हैं
बैंक में पासबुक नम्बर हैं
गैस-कनेक्शन में ग्राहक नम्बर हैं
रसोई में राशनकार्ड नम्बर हैं
खरीदारी में क्रेडिट कार्ड नम्बर हैं
बिज़नेस में पैन नम्बर हैं
देश  में  वोटर  नम्बर हैं;
विदेश  में  पासपोर्ट  नम्बर  हैं

नम्बरों  की  भीड़  में  घिरा  है आदमी
खो गया नम्बर अगर,तो खोया है आदमी
                 
                 ऋता शेखर मधु

14 टिप्‍पणियां:

  1. :-)

    बस पुलिस थाने के रजिस्टर में दस नम्बरी न हों....
    काबिल गौर रचना..
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा है ... कभी कभी नंबर बहुत जरूरी हो जाता है ... मान उतना जरूरी नहीं रहता ... अच्छी प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस नम्बर ही नम्बर ..मैं भी तीसरी नम्बर की टिप्पणी कर्ता होगई..यहाँ भी नम्बर..

    उत्तर देंहटाएं
  4. :):) बिकुल सही ... अनु जी की टिप्पणी भी ज़बरदस्त है बस दस नंबरी न हों

    उत्तर देंहटाएं
  5. नम्बरों की भीड़ में घिरा है आदमी
    खो गया नम्बर अगर,तो खोया है आदमी

    बहुत खूब!.....आदमी का अस्तित्व सिर्फ़ नंबर बनकर रह गया है, यदि यह नंबर भूल गया तो?

    उत्तर देंहटाएं
  6. अलग सी रचना.... सब नम्बरों का ही खेल है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. खो गए इस भीड़ में, मत खोना तुम आस,
    मिल जाओगे शीघ्र तुम,यदि नम्बर है पास

    यदि नम्बर है पास, रजिस्टर्ड रहो कही पर
    मोबाइल नम्बर है पास, फिर काहे का डर

    नम्बर का यह खेल जीवन में बहुत निराला,
    यदि नम्बर मिलजाय लाटरी खुल जाय ताला

    MY RECENT POST...:चाय....

    उत्तर देंहटाएं
  8. नम्बरों  की  भीड़  में  घिरा  है आदमी
    खो गया नम्बर अगर,तो खोया है आदमी   .....................         
    ....बेहतरीन ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. नंबरों की दौड़ भी अत्यंत दिलकश है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मधुर लगा नंबर का गुंजन, दश नम्बरी सचिन तेंदुलकर |
    तेरह नंबर के राष्ट्रपति का, है चुनाव अब आया नंबर |
    बिन नंबर के टिकट मिले न, ट्रेन लगा न पाती चक्कर |
    बारी बारी प्रभु रहे बुलाते, पूछ रहा निज नंबर रविकर ||

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच मे ...नम्बर के पीछे ही तो सब भाग रहे हैं ....गहन अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. नम्बरों की भीड़ में घिरा है आदमी
    खो गया नम्बर अगर,तो खोया है आदमी

    मस्त एकदम!! :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!