शुक्रवार, 6 जुलाई 2012

रे मन, बरस जा...




ओ धरती
तुम बरसी
वह तपिश थी ग्रीष्म की
जिसे तुम सहती रही
सूरज दहका
दहकी तुम
नदी ताल पोखर सागर
सब साक्षी थे
कि तुम तपती रही
भाप बन उड़ती रही
अम्बर तेरा मन
विकलता की बूँद-बूँद
जाकर वहाँ थमती रही
उमड़- घुमड़
मचलती रही
बूँद थे अनगिन
भार असह्य होना ही था
आखिर तुम
बरस ही पड़ी
मन आकाश में बदरा
कब तलक टिक पाते
कभी फुहार
कभी मुसलाधार
सबने कहा
यह है
सावन-भादो की झड़ी

रे मन
उमड़ घुमड़ कर
कुछ न पाएगा
बरस जाने दे
नयनों के रास्ते
सावन...भादो
फिर जो ठंढक मिलेगी
उस राहत
उस सुकून का
कहना ही क्या...!!!

ऋता शेखर मधु

31 टिप्‍पणियां:

  1. मन जो बरस जाएगा नैनों के रास्ते तो...मन आँगन में फूल खिलेंगे ही...

    बहुत सुन्दर ऋता जी...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उन फूलों की खुश्बू ...वाह...नया आनंद देगीः)
      सस्नेह !!

      हटाएं
  2. रे मन
    उमड़ घुमड़ कर
    कुछ न पाएगा
    बरस जाने दे...सच अब तो बरस ही जाए..बहुत सुन्दर प्रस्तुति .ऋता शुभकामनायं

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन बरस कर सुकून तो पा ही जायेगा.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. आया सावन लग गई झड़ी
    थोड़ी - थोड़ी सी ठंडक बढ़ी
    मूसलाधार कही बौछारे पड़ी
    मौसम है, भीगने की घड़ी,,,,,,,

    बहुत सार्थक प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन भी ऐसे ही बरस पड़ता है और तपिश ठंडी हो जाती है ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. तरह तरह की बरसात , कहीं सुखद कहीं दुखद !
    यही तो जीवन है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बरसकर कुछ तो सोंधे ख्याल मिलेंगे मन ... शायद कोई इन्द्रधनुष अपना हो जाए

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ दी, मन हल्का होगा तभी इन्द्रधनुष दिखेंगे !!

      हटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (07-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. रे मनउमड़ घुमड़ करकुछ न पाएगाबरस जाने देनयनों के रास्तेसावन...भादोफिर जो ठंढक मिलेगीउस राहतउस सुकून काकहना ही क्या...!!!
    खुबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ... भावमय शब्‍द संयो‍जन ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर भावभीनी रचना...
    सुन्दर... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल को छूती खूबसूरत प्रस्तुति मन हल्का करने को काफी है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. रे मन
    उमड़ घुमड़ कर
    कुछ न पाएगा
    बरस जाने दे
    नयनों के रास्ते
    सावन...भादो
    फिर जो ठंढक मिलेगी
    उस राहत
    उस सुकून का
    कहना ही क्या...!!!

    आपकी सुन्दर प्रस्तुति दिल को छूती है.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!