मंगलवार, 21 अगस्त 2012

छलिया चितचोर साँवला सलोना नंद का छोरा



प्रेम का हर सार छुपा है राधा-कान्हा की भक्ति में
परम आनंद प्रकट होता मीरा की अनुरक्ति में

छलिया चितचोर साँवला सलोना नंद का छोरा
मनमोहना था, डूबी गोपियाँ प्रेम-आसक्ति में

मोहन एक गोपियाँ अनेक रास रचाए मधुवन
अधर से मुरली यूँ जुड़े ज्यूँ समास जुड़ें विभक्ति में

निष्ठुर बना वह नंदलाला छोड़ गया वृंदावन
गऊ गाछ गोपियाँ गलियाँ गुमसुम हुए विरक्ति में

कालिया जयद्रथ शिशुपाल कंस कृष्ण को ना भाते
धैर्य से हम रखें यकीन नारायण की शक्ति में

ऋता शेखर 'मधु'

इस ग़ज़ल को जन्माष्टमी के लिए तैयार किया था किन्तु ऐन मौके पर एक सप्ताह के लिए नेट महाराज धोखा दे गए...
अपनी रचना तो नहीं ही डाल पाई , सबके ब्लॉग की रचनाएँ भी मिस कियाः(

16 टिप्‍पणियां:

  1. :):) janamashtami chala gaya.... par krishna ki mithi yaad dila di...:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम का हर सार छुपा है राधा-कान्हा की भक्ति में
    परम आनंद प्रकट होता मीरा की अनुरक्ति में... बहुत सुन्दर भाव ..देर ही सही पर पढ़ने को तो मिला...ऋता...शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. रास यानि प्रेम ... प्रेम शरीर का बोधक नहीं है . कृष्ण ने जो रास रचाया , उसमें अदभुत शक्तिशाली खुशियाँ थी, एक सक्षम पुरुष की निगरानी थी .... पर जाकी रही जैसी भावना ....


    प्रेम का हर सार छुपा है राधा-कान्हा की भक्ति में
    परम आनंद प्रकट होता मीरा की अनुरक्ति में

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर...मनभावन रचना....
    कृष्ण तो सदाबहार हैं......
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत रचना ... कृष्ण की कितनी ही छवि समेट ली हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम का हर सार छुपा है राधा-कान्हा की भक्ति में
    परम आनंद प्रकट होता मीरा की अनुरक्ति में
    भावमय करते शब्‍दों का संगम ... उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. छलिया चितचोर साँवला सलोना नंद का छोरा
    मनमोहना था, डूबी गोपियाँ प्रेम-आसक्ति में

    मधुर भाव की अनुपम अभिव्यक्ति.
    आपकी हर प्रस्तुति मधुर गुंजन करती सी लगती है

    आभार,ऋता जी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऋता जी, बहुत सुंदर शब्‍द चित्र खींचे हैं। हार्दिक शुभकामनाएं।

    ............
    डायन का तिलिस्‍म!
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मोहन एक गोपियाँ अनेक रास रचाए मधुवन
    अधर से मुरली यूँ जुड़े ज्यूँ समास जुड़ें विभक्ति में ...
    करिश का रूप और उनका हर प्रसंग ओने आप में महा काव्य है ... उसे गज़ल, कविता में अनेकों रूप में बांधा है कवियों ने ... बहुत ही लाजवाब शेर कहे हैं आपने भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ...कृष्ण मई बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति ...!!
    शुभकामनायें...!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत शानदार ग़ज़ल शानदार भावसंयोजन हर शेर बढ़िया है आपको बहुत बधाई
    आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है बस लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!