शनिवार, 29 दिसंबर 2012

कलम का प्रोटेस्ट




नींद में ही
इक आवाज सुनी
वह चली गई
मन स्तब्ध
आँखें नम
हृदय की धड़कन
रुकी-रुकी सी
मन की शक्ति
चुकी-चुकी सी
कलम उठाया
कि लिख दूँ
उसकी आत्मा की शांति के लिए
दो शब्द
पर यह क्या?
कलम ने
चलने से इंकार किया
क्यूँ.....?
कलम ने कहा-
नहीं लिख सकोगी
मेरी भी जिद थी-
लिख लूँगी
-तो फिर लिखो
मैंने उढ़ेल दी
सारी संवेदनाएँ
पर उभरा
एक ही निशान
प्रश्नचिन्ह का
?????
?????
मैं अवाक्
कलम ने कहा-
पहले आँख मूँदो
महसूस करो उसे
उसके घरवालों को
दो मिनट का मौन रखो
फिर लिखना...
कलम का प्रोटेस्ट
सर झुकाकर
मान लिया मैंने|

ऋता शेखर मधु

12 टिप्‍पणियां:

  1. दामिनी को श्रद्धा सुमन नमन आपकी भावनाओं को मेरा नतमस्तक प्रणाम, यह जो कुछ भी हुआ कतई नहीं होना चाहिए था. कुछ और कहा नहीं जाएगा सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. दो मिनट का मौन रखो
    फिर लिखना...
    कलम का प्रोटेस्ट
    सर झुकाकर
    मान लिया मैंने|
    अश्रु पूरित श्रद्धांजली

    उत्तर देंहटाएं
  3. तेरी बेबसी का, दिल को मलाल बहुत है दामिनी
    शर्म आती है अब तो, खुद को इंसान कहने पर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरी बेबसी का, दिल को मलाल बहुत है दामिनी
    शर्म आती है अब तो, खुद को इंसान कहने पर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेटी दामिनी

    हम तुम्हें मरने ना देंगे
    जब तलक जिंदा कलम है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. दामिनी को अश्रु पूरित श्रद्धांजली....भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. अश्रु पूर्ण श्रद्धांजलि...

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक ही निशान
    प्रश्नचिन्ह का
    ?????
    ?????
    मैं अवाक्सर झुकाकर
    मान लिया मैंने|
    अश्रु पूरित श्रद्धांजली

    उत्तर देंहटाएं
  9. जायज़ है पूरी तरह ये प्रोटेस्ट।
    सादर श्रद्धांजलि बहन को।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सारे देश के लिए ये एक बेहद दुखद दिन था...
    दामिनी को श्रद्धांजलि।।।
    नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाएं।।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. दुःख की इस घडी में हर कोई प्रश्न ले के खड़ा है ...
    दामिनी को नम ह्रदय से विदाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. मौन नहीं
    अब प्रतिकार होगा
    न्याय का अब
    सबको अधिकार होगा ।

    सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!