रविवार, 20 जनवरी 2013

एक नई विधा - शे'रगा

आज मैं एक नई विधा से आपका परिचय करवाने जा रही हूँ...
जब चित्र पर हाइकु लिखते हैं तो वह हाइगा कहलाता है...तो जब चित्र पर शे'र लिखा जाएगा तो शेर-गा ही कहलाएगा न...आज प्रस्तुत है कुछ शे'रगा

शहीदों के लिए
सभी चित्र गूगल से साभार

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और गागर में सागर भरते है ये चित्र !!

    New Post

    Gift- Every Second of My life.

    उत्तर देंहटाएं
  2. होनहार दिमाग की पहुँच आसमां कहलाती है

    उत्तर देंहटाएं
  3. sabhi prastutiya behad sarahniy,subdar bhavo avm sundar manmohak chitro se susajjit, behatareen

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब
    शेर और गाय माँ
    एक घाट पे -

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 23/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमेशा की तरह कुछ नया करने की चाहत,,,नई विधा शेरगा,से परिचय कराने के लिए ....आभार ऋतू जी,,,,,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. भई वाह ... कमाल के सभी शेर-गा ... या शे'रगा ....
    मज़ा आया ... ओर जानकारी भी मिली ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर बेह्तरीन अभिव्यक्ति .शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!