बुधवार, 10 अप्रैल 2013

जिमें केशरी भात अरु, बोलें मीठे बोल


फागुन मास गुजर गया, आसमान है साफ|
धूप सुनहरी है सजी, अन्दर गए लिहाफ़|1|

सुरमई सहज सांध्य से, रातें बनीं उदार|
झिलमिल झिलमिल कर रहे, नव तारों के हार|2|

होली गई फाग गया, चैत बना अनुराग|
नव वर्ष अब आ गया, जाग मुसाफिर जाग|3|

आज खास श्रीखंड अरु, पूरणपोली, नीम|
करें निरोगी पत्तियाँ, ऐसा कहें हकीम|4|

बैठो मिल-जुल दो घड़ी, तुम अपनों के पास|
पल भर दुख-सुख बाँट लो, मन में घुलें मिठास|5|

चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा, मिले जगत को प्राण|
नवसंवत्सर आज है, हरषित हुए कृषाण|6|

जिमें केशरी भात अरु, बोलें मीठे बोल|
गुड़ी पड़वा कहे हमें, मिलें सदा दिल खोल|7|

गुड़ी पड़वा महाराष्ट्र में, बिहार में नवरात्र|

नवसंवत्सर शुभ रहें, शुभ हों मंगल-पात्र|8|

ऋता शेखर 'मधु'


13 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 13/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

      हटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन दोहे ...
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस रुत के सारे रंग समेट लिए आपने नवसंवत्सर शुभ हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर दोहे....
    आपको भी नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनायेँ !!

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली गई फाग गया, चैत बना अनुराग|
    नव वर्ष अब आ गया, जाग मुसाफिर जाग ..

    बहुत सुन्दर दोहे सभी ... प्राकृति के अनुपम रंग लिए ...
    नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर दोहे मन को छू गए,आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन रचना! बहुत-बहुत सुंदर!
    आपको भी हार्दिक शुभकामनाएँ!:)
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन. कैलाश गौतम की याद दिला दी आपने

    उजली धूप कछार की हम सरसों के फूल
    जब -जब होगा सामना तब-तब होगी भूल

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!