गुरुवार, 13 जून 2013

ऐ समंदर...


पूनो की रात आती जब
समंदर क्युँ मचल जाता है
राज़े-दिल बयाँ करने को
वह भी तो उछल जाता है
खामोश चाँद ने कुछ कहा
फिर से वह बहल जाता है
कभी बहाने से सैर के
लहरों पे निकल जाता है
सुनने प्रेमी दिल की व्यथा
कूलों पर टहल आता है
करुण कहानी मुहब्बत की
सुनकर वह पिघल जाता है
समेट अश्कों की धार को
खारापन निगल जाता है

ऐ समंदर, तेरी गहराइयाँ
बेचैन बहुत करती हमें
मन मनुज का भी तो
तुझसे कम गहरा नहीं
लहरें बहुत उठतीं वहाँ भी
शांत धीर तुझसा ही वह
तेरी तरह ही तो वहाँ भी
बाँध का पहरा नहीं

पर सुनामियाँ भी कब भला
किसके रोके से रुकी हैं ???
..........ऋता..

12 टिप्‍पणियां:

  1. ऐ समंदर, तेरी गहराइयाँ
    बेचैन बहुत करती हमें
    मन मनुज का भी तो
    तुझसे कम गहरा नहीं


    बिलकुल सही कहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन मनुज का भी तो
    तुझसे कम गहरा नहीं
    लहरें बहुत उठतीं वहाँ भी
    शांत धीर तुझसा ही वह
    तेरी तरह ही तो वहाँ भी
    बाँध का पहरा नहीं

    गहन बात ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (14-06-2013) के "मौसम आयेंगें.... मौसम जायेंगें...." (चर्चा मंचःअंक-1275) पर भी होगी!
    सादर...!
    रविकर जी अभी व्यस्त हैं, इसलिए मंगलवार की चर्चा मैंने ही लगाई है।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।...

    मन मनुज का भी तो
    तुझसे कम गहरा नहीं
    लहरें बहुत उठतीं वहाँ भी
    शांत धीर तुझसा ही वह
    तेरी तरह ही तो वहाँ भी
    बाँध का पहरा नहीं...

    जय श्री राधे
    भ्रमर 5

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या कहने, बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर सुनामियाँ भी कब भला
    किसके रोके से रुकी हैं ???
    ....बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर ....गहन रचना ऋता जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. ना....नहीं रुकती सुनामियाँ....न रुकता है भावनाओं का ज्वार....

    बहुत सुन्दर दी...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!