रविवार, 25 मई 2014

समांतर रेखाएँ



अन्तर बना कर चलने का भी
गणित में बहुत सार्थक वजूद है
सैद्धान्तिक रूप से 
दो समांतर रेखाएँ
आपस में 
नहीं मिलतीं
पर चलती हैं साथ साथ
बिना दो रेखाओं के 
समांतर शब्द का अर्थ नहीं

दो भिन्न स्वभाव के लोग
जब भी साथ चलते हैं
उनके बीच दूरी रहती है
पर यह न समझो
उन्हें दूसरे की परवाह नहीं
परवाह है तभी तो साथ हैं

और गणितज्ञ यह भी कहते हैं
समांतर रेखाएँ अनंत में मिलती हैं

तो हे प्रभु,
यही आशा और विश्वास
हमारे साकार और
तुम्हारे निराकार रूप को
अनंत में एकाकार करेंगे
और तब सिद्ध हो जाएगा
पूजा और आस्था का समांतर होना|
.........ऋता शेखर 'मधु'




1 टिप्पणी:

  1. कुछ फेसबुकिया लाइक्स एवं कमेंट्स----------

    You, Ramesh Thakur, Richa Srivastava, Sunil Anand and 54 others like this.

    Deepak Shukla Aha....wah...bahna!!.. Dekh leejiye...aastha ne ganit aur adhyatm...dono ko jod diya...yahin..bina anant ki yaatra kiye..
    May 21 at 4:06pm · Unlike · 2

    Priyanka Pandey true
    May 21 at 4:13pm · Unlike · 3

    Abha Dubey समांतर रेखाएँ अनंत में मिलती हैं.....bilkul satya
    See Translation
    May 21 at 4:17pm · Unlike · 5

    Kapil Dutt Sharma true....
    May 21 at 4:19pm · Unlike · 1

    Kapil Dutt Sharma गणित भी साहित्य सृजन करता है......उत्तम...
    May 21 at 4:22pm · Unlike · 2

    विजय कुमार भारतीय Madhu ji ki sarthk rachna.
    May 21 at 4:48pm · Unlike · 1

    Rashmi Prabha शानदार विश्लेषण मेरी गुरु बहन
    May 21 at 5:26pm · Unlike · 1

    ऋता शेखर 'मधु' सच कहूँ Rashmi Di...रोजमर्रा के जीवन से उदाहण देते हुए विश्लेषण करना आपसे ही सीख रही हूँ...आपकी रचनाएँ पढ़कर अचंभित रह जाती हूँ मैं...सच्चीः)
    May 21 at 5:32pm · Like · 6

    Rashmi Prabha छोटी बहन ने जो सम्मान दिया,उसके लिए आशीष
    May 21 at 5:33pm · Unlike · 1

    Kailash Sharma लाज़वाब
    See Translation
    May 21 at 5:35pm · Unlike · 1

    Vani Geet Anant me milna samantar rekhaon kä maane ki sath n dilhe magar hal sath hi ! Bahut badhia! Ek kavita Maine bhi likhi thi samantar rekha par !
    May 21 at 5:38pm · Unlike · 3

    ऋता शेखर 'मधु' Vani...apni kavita padhwaiye pl
    May 21 at 5:52pm · Like · 1

    Shivji Srivastava वाह बेहद अर्थपूर्ण।
    May 21 at 5:58pm · Unlike · 1

    Vani Geet http://teremeregeet.blogspot.in/ plz. Yaha dekhe .mobile par link nahi de pa rahi hu
    May 21 at 5:59pm · Unlike · 4

    Anugunja Sinha दीदी, बहुत बहुत सुन्दर रचना , कभी सोचा नहीं था की गणित का ये रूप भी हो सकता है । एक अतिसुन्दर रचना के लिए बधाई ।
    See Translation
    May 21 at 6:43pm · Unlike · 1

    Rajesh Kummar Sinha Bahut Sundar aur Arthpurn,,,
    May 21 at 8:31pm · Edited · Unlike · 1

    Sangita Asthana very nice
    May 22 at 11:07am · Unlike · 1

    Prem Prakash Juneja Bahut khub - ab aisa hi kuvhh chhitij pee bhi likhiye
    May 22 at 12:03pm · Unlike · 1

    Poornima Sharma गणित और आस्था का ऐसा वर्णन और सार्थकता .....सचमुच अद्भुत लिखती हो हृता , ऐसा सब कहाँ सोच पाते हैं .....मेरी गुरु बन जाओ हृता ,प्लीज़
    May 22 at 5:43pm · Unlike · 1

    ऋता शेखर 'मधु' Poornima Sharma Di...ye aapke sneh aur aashirwad hai
    May 22 at 6:39pm · Like

    Imran Ansari Bahut gahan aur sundar abhivyakti
    See Translation
    May 22 at 9:49pm · Unlike · 1

    Ravinder Kumar so divine
    May 23 at 1:56pm · Unlike · 1

    Richa Srivastava बेहतरीन पंक्तियाँ...
    See Translation
    Yesterday at 12:40am · Like

    Ramesh Thakur Aastha mi nayi kiran
    Behtarino me behtarin
    Yesterday at 2:08pm · Like

    Ashok Upadhyay · 8 mutual friends
    Its true ji
    19 hours ago · Like
    ऋता शेखर 'मधु'

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!