बुधवार, 8 जून 2016

मुक्ति-लघुकथा

मुक्ति-

कंपकंपाते हाथो से मकान के लोन की अंतिम किश्त पर हस्ताक्षर करते हुए सुरेश बाबू की आँखों से दो बूँद आँसू टपक पड़े।
" यह क्या, आज तो आपको खुश होना चाहिए कि आप कर्ज से मुक्त हो गए।" बैंक मैनेजर ने आत्मीयता से सुरेश बाबू से हाथ मिलते हुए कहा।
" जी, मैं बहुत खुश हूँ कि जिंदगी ने यह मौका दिया कि मैं बेटे पर कर्ज का भार छोड़कर नहीं जा रहा।"
घर लौटते हुए पत्नी के लिए चूड़ियाँ लेते हुए उन बंधनमुक्त कलाइयों पर खनकती चूड़ियों की कल्पना कर बरबस मुस्कुरा उठे सुरेश बाबू।
-ऋता

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 9-6-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2368 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल को छूती बहुत सुन्दर लघु कथा..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!