रविवार, 25 सितंबर 2016

लघुकथा- चिपको

Image result for चिपको आन्दोलन
लघुकथा- चिपको

नन्हें अतुल का घर बहुत बड़ा था| उस घर में उसके पापा- मम्मी, दादा- दादी और चाचा रहते थे| बड़े घर का आँगन भी बहुत बड़ा था|

“क्यों न आँगन वाली जमीन में दो कमरे बना दें और किराए पर दे दें| बेकार ही वहाँ इतनी सारी जमीन पड़ी है,”दादा जी ने सबके सामने यह प्रस्ताव रखा|

“मगर दादा जी, वहाँ जो अमरूद का पेड़ है उसका क्या करेंगे,” छठी कक्षा में पढ़ने वाले अतुल ने जिज्ञासा प्रकट की|

“ उसे कटवा देंगे और क्या” अतुल के पापा ने कहा|

“लेकिन पापा, पेड़ नहीं काटना चाहिए| पेड़ हमारे पर्यावरण को शुद्ध रखते हैं|”

“बड़ा आया पाठ पढ़ाने वाला, काम है तो पेड़ काटना ही पड़ेगा| तुम अभी बच्चे हो, बाहर जाकर खेलो और हमें अपना काम करने दो,”चाचा ने अतुल को डाँट दिया|

“जाकर पेड़ काटने के लिए एक मजदूर को बुलाकर ले आओ,” दादा जी ने बेटे को कहा|
“जी” कहकर अतुल के चाचा बाहर चले गए|

अतुल कमरे में बैठकर सोचने लगा| अचानक क्लास में पढ़ाई गई गौरा देवी की कहानी उसे याद आ गई| वन में पेड़ों की कटाई रोकने के लिए गौरा देवी के नेतृत्व में महिलाएँ पेड़ों से चिपक कर खड़ी हो जाती थीं| उनका कहना था कि पहले उन्हें काटा जाए फिर पेड़ को काटें|चिपको आन्दोलन के बाद सरकार ने पेडों की कटाई पर रोक लगा दी थी|
आँगन में हलचल बढ़ चुकी थी| पेड़ काटने के लिए शायद मजदूर आ चुका था| अतुल बाहर निकला और अमरूद के पेड़ से चिपक कर खड़ा हो गया|

“ अरे, यह क्या कर रहे हो अतुल| हटो वहाँ से, पेड़ काटने दो,” समवेत स्वर में पापा, दादा और चाचा ने कहा|
“नहीं, पेड़ काटने वाले अंकल को बोलिए पहले मुझपर कुल्हाड़ी चलाएँ,”अतुल ने अडिग स्वर में कहा|

सब खामोश खड़े थे| अतुल की मम्मी जो दूर खड़ी थीं, ने समर्थन में अतुल को अँगूठा दिखाया|

“पेड़ के दो फीट दूर से नींव की जमीन खोदो”, अचानक दादा जी ने मजदूर को आदेश दिया|

--ऋता शेखर ‘मधु’

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल सोमवार (26-09-2016) के चर्चा मंच "मिटा देंगे पल भर में भूगोल सारा" (चर्चा अंक-2477) पर भी होगी!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ-
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!