मंगलवार, 26 दिसंबर 2017

सरकारी नौकरी के लिए रुझान-एक रिपोर्ट

     
पढ़ाई पूरी करने के बाद जब रोजी रोटी की बात आती है तो हमारे पास तीन विकल्प होते हैं|
1बहुराष्ट्रीय कम्पनी/प्राइवेट की नौकरी
2.सरकारी नौकरी
3.स्वरोजगार
फेसबुक पर मैंने एक वोटिंग कराई| वोटिंग सिर्फ एक दिन के लिए थी और सिर्फ मित्रसूची में शामिल मित्रों के लिए थी| जो उस वक्त ऑनलाइन हो पाए उन्होंने सहर्ष भाग लिया| वोटिंग का उद्येश्य यह जानना था कि भारत में किन नौकरियों के लिए क्या रुझान है | जितने लोगों ने और जिन लोगों ने अपने मत और मंतव्य दिये उसका एक ब्योरा प्रस्तुत कर रही हूँ|

कुल 56 लोगों की वोटिंग के आधार पर जो प्रतिशत निकले उनके अनुसार...

1बहुराष्ट्रीय कम्पनी/प्राइवेट की नौकरी—20%

2.सरकारी नौकरी..66%

3.स्वरोजगार..13%

1.सबसे पहले बात करते हैं बहुराष्ट्रीय कम्पनी की...

इतिहास-- भारत में विदेशी कम्पनियाँ तीन तरीके से कम कर रही है। पहला, सीधे अपनी शाखायें स्थापित करके, दूसरा अपनी सहायक कम्पनियों के माध्यम से, तीसरा देश की अन्य कम्पनियों के साथ साझेदार कम्पनी के रूप में।

8 विशालकाय ब्रिटिश कम्पनियाँ सन् 1853 से ही ईस्ट इण्डिया कम्पनी द्वारा भारत में घुसना शुरू हो गयी थीं।

आजादी के पूर्व सन् 1940 में 55 विदेशी कम्पनियाँ देश में सीधे कार्यरत थीं। आजादी के बाद सन् 1952 में किये गये एक सर्वेक्षण के अनुसार ब्रिटेन की 8 विशालकाय कम्पनियों के सीधे नियन्त्रण में 701 कम्पनियाँ भारत में व्यापार कर रही थीं। सन् 1972 के अन्त तक देश में कुल 740 विदेशी कम्पनियाँ थीं। जिनमें से 538 अपनी शाखायें खोलकर व 202 अपनी सहायक कम्पनियों के रूप में काम कर रही थीं। इनमें सबसे अधिक कम्पनियाँ ब्रिटेन की थीं। लेकिन आज सबसे अधिक कम्पनियाँ अमेरिका की हैं। समझौते के अन्तर्गत काम करने वाली सबसे अधिक कम्पनियाँ जर्मनी की हैं। 1977 में विदेशी कम्पनियों की संख्या 1136 हो गयी।

जून 1995 तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 3500 से कुछ अधिक विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ, अपनी शाखाओं या सहायक कम्पनियों के रूप में देश में घुसकर व्यापार कर रही हैं। 20,000 से अधिक विदेशी समझौते देश में चल रहे हैं।

लाभ-जब भारत बेरोजगारी से जूझ रहा था तब ये विदेशी कम्पनियों ने संजीवनी का काम किया| नौकरी के कई विकल्प उन्होंने दिए| सैलरी आकर्षक थी| समय की पाबंदी भी नहीं थी...जब मन करे ऑफिस जाओ, सिर्फ काम के घंटे पूरे होने चाहिए|

स्वतंत्रता भरा जीवन उन्हें अच्छा लगा| समय पर आत्मनिर्भर हुए|

विदेश जाने का मौका मिला|

श्रम की कद्र होती है

हानि- बहुराष्ट्रीय कम्पनियों ने भारत में महानगरों को अपना केंद्र बनाया जिसके फलस्वरूप बच्चे नौकरी करने के लिए अपने घर परिवार से दूर होने लगे| कई परम्पराएँ और संस्कार अनजाने ही विलुप्त होते चले गए| बाहर का पैकेज़्ड फुड खाकर उनके सेहत पर भी असर आने लगा| किराया का व्यापार बढ़ाने लगा जहाँ नौकरी वाले बच्चे एक साथ शेयर वाले घर लेने को मजबूर हो जाते|

हर वर्ष फायर किए जाते हैं कर्मचारी...यदि काम में

बुज़ुर्ग दम्पति अपने अपने शहरों में अकेले होते चले गये| छोटे बच्चे दादी-दादी और नाना-नानी से अलग हो गए |

वोट देने वाले मित्र---

1.Nivedita srivastava जी

2.Abhishek Jain जी

3.Rupa Madhav जी

4.Pawan Jain जी

5.Rochika Sharma जी

6.Arun Singh Ruhela जी

7.Sandeep Kumar जी

8.महिमा श्रीवास्तव ‘वर्मा’ जी

9.Ankit Khare जी

10.Udan Tashtari जी

11.Kanchan Aparajita जी

मित्रों के विचार उनके ही शब्दों में---
Arun Singh Ruhela- मैं मार्केटिंग मैनेजमेंट पढ़ाता हूँ , साथ ही इंजीनिरिंग के बच्चों को स्वरोजगार के लिए स्पेशल कोर्स (EDP) कराता हूँ ! अच्छी कम्पनी में प्लेस्मेंट हो तो शुरुवाती सालों में अच्छा है, बालक हीरा बन के निखरता है और दुनिया भर में उसके हुनर की माँग होती है !
Pawan Jain- फायर काम चोरों को,काम करो अच्छे पैसे लो,पर सरकारी नोकरी में काम न करने की आदत पड़ जाती ओर आपके काम की कोई कीमत नहीं।सरकारी नोकरी में कुव्यवस्था के जाल से मुक्ति नहीं।पर अब परिवर्तन हो रहा है।
Poornima Sharma- मुझे तो सरकारी नौकरी मिल गयी थी,लेकिन मेरे दोनों बेटों को सरकारी जॉब मिलने तक मल्टीनेशनल में काम करना पड़ा।पैसे कारण नहीं था,कारण था अनुभव प्राप्त करना।
महिमा 'श्रीवास्तव' वर्मा- निश्चित रूप से मल्टीनेशनल कंपनी में,, हमारे अनुसार ये इसलिए कि मेहनत अब दोनों ही तरह की नौकरी में है तो पहला कारण ये है कि आरक्षण के कारण कोई नुकसान नहीं होगा किसी योग्य और परिश्रमी व्यक्ति का. ,,दूसरा ये कि जरुरत के वक़्त नौकरी छोड़ सकते हैं,, बाद में मनचाहे वक़्त पर आप में योग्यता है तो फिर से मिल ही जाएगी.

2. सरकारी नौकरी—

वेतनमान और सीनियरिटी के अनुसार पगार

सुरक्षित भविष्य

किसी हादसा दुर्घटन में मृत सरकारी व्यक्ति के परिवार के एक सदस्य को नौकरी

ताउम्र पेंशन

काम से निकाले जाने का खतरा नगण्य

वोट देने वाले मित्र-

1.Mahfooz Ali जी

2.Vibha rani srivastava जी

3.Rashmi Prabha जी

4.रेखा श्रीवास्तव जी

5.Poornima Sharma जी

6.Anjali Agraval जी

7.सुश्री इंदु सिंह जी

8.Rekha Joshi जी

9.Kusum Shukla जी

10.Sanjay Kumar जी

11.Sandhya Tiwari जी

12.Priyanka pandey जी

13.Daisy jaiswal जी

14.Deepshikha sagar जी

15.Jagdish Vyom जी

16.Upasna Siag जी

17Dilbag virk जी

18.Manish Tyagi जी

19.Pooja Singh जी

20.मधु जैन जी

21.Vanphool Sharma Dadhich जी

22.धरणीधर मणि त्रिपाठी जी

23.Neilam Mahajan जी

24.कुमार गौरव अजीतेन्दु जी

25.Asha Singh जी

26.Pradyumn Sharma जी

27.Vinay Chaudhary जी

28.Ashok Yadav जी

29.Jyotsna Saxena जी

30.Mridula Pradhan जी

31.अंकिता कुलश्रेष्ठ जी

32. अराधना अराधना जी

33.Geeta Verma जी

34.Ratna Verma जी

35.Dheerendra Singh Bhadauriya जी

36. Meenakshi TapanSharma जी

सरकारी नौकरी के लिए मित्रों के विचार
Sadhana Agnihotri -सरकारी नौकरी सिर्फ़ आरक्षित वर्ग को ही मिलती है ,
ऐसे में अनारक्षित वर्ग प्राईवेट नौकरी करने को मजबूर है ।।
Dheerendra Singh Bhadauriya- kisi ki Naukri karna Mujhe pasand hai nhi. agar Karna pade to sarkari naukri karunga.

3.
Self Employment-स्वरोजगार
वोट देने वाले मित्र
1.Ashish Rai जी

2.Shashi Bansal जी

3.Shalini Srivastava जी

4.Mukesh Sharma जी

5.Sadhna Agnihotri जी

6.Sandhya Sharma जी

7.पूर्णिमा वर्मन जी

कुछ कह नहीं सकते
सीमा भाटिया


इस बारे में मित्रों के विचार उनके ही शब्दों में साझा कर रही हूँ|
Ashish Rai- उ वाली कहावत सुनी होगी, उत्तम खेती मध्यम बान , निषिध चाकरी भीख निदान।

Mukesh Sharma- वो व्यक्ति जिन्हें अपने कार्य कौशल तथा बुद्धिमता पर पूर्ण विश्वास है और अच्छा काम करते हुए लगातार आगे बढ़ने की ललक है, उन्हें निजी क्षेत्र ही भाता है । राजकीय उपक्रमों में आपको तरह-तरह के अड़ंगे लगाकर कार्य नहीं करने दिया जाता, क्योंकि ज्यादातर लोग काम करते नहीं है और किसी को करने भी नहीं देते । ऐसे लोगों ने बरसों बरस से सारी व्यवस्थाओ को घुन लगा दिया है और इन स्थितियों में कार्यशील व्यक्ति का दम घुटने लगता है एंवम वह स्वयं को असहाय सा महसूस करता है ।मैं स्वरोजगार को ही महत्ता दूँगा । इससे ना केवल आप सक्रिय ही रह पाते है, वरन अन्य लोगों के लिए भी रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने की क्षमताओं में इज़ाफ़ा करते है ।
Sandhya Sharma- मैं भी स्वरोजगार को ही प्राथमिकता देने पसंद करूँगी, अपने साथ साथ अनेकों को रोजगार के अवसर देने का सामर्थ्य भी प्राप्त होता है।
पूर्णिमा वर्मन- स्वरोजगार... अपने हाथ जगन्नाथ और साथ ही साथ देश की सेवा और देश का निर्माण |
Udan Tashtari केरियर में और जीवन में हर वक्त एक चैलेंज जरुरी है कुछ भी बेहतर करने के लिए|
Mani Ben Dwivedi -मल्टी नेशनल नौकरी तो लोग तो मजबूरी में पसंद कर रहे है,,....सरकारी नौकरी में तो जिंदगी और टैलेंट सब आरक्षण के भेट चढ़ जा रहे हैं------मैं खुद भुक्तभोगी हूँ। मल्टीनेशनल में कम से आपकी योग्यता का तो क़दर होता है।
***********************************************
ब्लॉगर मित्रों से अनुरोध है कि आप भी अपनी कीमती राय यहाँ कमेंट में दें|
*************************************************

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपने अपनी रिपोर्ट में सबकुछ तो समेट लिया है अब राय देने के लिये कहाँ कुछ बचा है । बहुत सुन्दर रिपोर्ताज सुन्दर प्रयास।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 28-12-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2831 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!