रविवार, 10 मार्च 2013

महाशिवरात्रि...





पावन पर्व
हर हर महादेव
गूँजी दिशाएँ
आओ, चलो हम भी
कर दें अभिषेक|

विष को पिया
कंठ में धार लिया
हम भी सीखें
हर बुराई सहें
आत्मसात न करें|

तेरा ही नाम
जिसने भजा सदा
वह क्यूँ डरे
भव सागर का तू
जो खेवनहार है|

ऋता शेखर 'मधु'

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर ,महाशिवरात्रि की शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर ....हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ महाशिवरात्रि आपको परिवार सहित

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और सार्थक रचना.आपको महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सार्थक प्रस्तुति आपकी अगली पोस्ट का भी हमें इंतजार रहेगा महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    कृपया आप मेरे ब्लाग कभी अनुसरण करे

    उत्तर देंहटाएं
  8. श्री ग़ाफ़िल जी आज शिव आराधना में लीन है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी सम्मिलित किया जा रहा है।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (11-03-2013) के हे शिव ! जागो !! (चर्चा मंच-1180) पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. विष को पिया
    कंठ में धार लिया
    हम भी सीखें
    हर बुराई सहें
    आत्मसात न करें..

    जय भोले ... बहुत घी सुन्दर मनभावन हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रस्तुति ..ॐ नम: शिवाय!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!