रविवार, 13 दिसंबर 2020

कर्णेभिः 17 में मिन्नी मिश्रा जी की लघुकथा


कर्णेभिः में मिन्नी मिश्रा जी की लघुकथा


6 टिप्‍पणियां:

  1. वीडियो अपलोड नहीं हो पाया है यहां।

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 14 दिसंबर 2020 को 'जल का स्रोत अपार कहाँ है' (चर्चा अंक 3915) पर भी होगी।--
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत शानदार सार्थक लघुकथा।
    सुंदर विवेचना करती व्याख्यात्मक समीक्षा ने कथा को और भी
    मुखरित किया है।
    लेखिका और समीक्षिका दोनों को साधुवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. लाजवाब लघुकथा और भावपूर्ण कथा वाचन । अंत में समीक्षात्मक संदेश ने प्रस्तुति को चार चाँद लगा दिये ।

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!