रविवार, 6 जनवरी 2013

सरवाइवल ऑफ़ द फ़िटेस्ट



सरवाइवल ऑफ़ द फ़िटेस्ट

एक बार कालदेव यमराज जी महाराज अपने असिस्टेंट चित्रगुप्त जी महाराज के साथ पृथ्वी भ्रमण को आए| सबसे पहले तो वह यहाँ की भीड़भाड़ देखकर घबड़ा गए| उन्होंने सोचा कि यहाँ इतनी भीड़ है तो सबकुछ कैसे मैनेज होता होगा| यही बात उन्होंने चित्रगुप्त जी से पूछा| चित्रगुप्त जी ने कहा कि दो-चार स्थानों पर जाकर देखते हैं कि सब कुछ किस सिस्टम से चलता है| सुबह का समय था तो सोचे कि पहले मंदिर जाकर भगवान के दर्शन कर लूँ| दर्शन करने के लिए लड्डु लेने थे| देखा कि बहुत सारे लोग प्रसाद खरीदने ले लिए लाइन में लगे थे| यमराज जी तो यह सिस्टम जानते नहीं थे तो लाइन में सबसे आगे आकर लड्डु लेना चाह रहे थे तभी आवाज आई क्यू में रहिए |  बेचारे सकपका गए| उन्होंने चित्रगुप्त जी की ओर देखा| चित्रगुप्त जी ने बताया कि वे लाइन में आगे नहीं आ सकते| करीब पन्द्रह-बीस मिनट बाद वे प्रसाद खरीद पाए| प्रसाद लेकर मंदिर की ओर बढ़े| वहाँ लम्बी लाइन लगी थी| एक बार डाँट सुन चुके थे सो चुपचाप लाइन में लग गए| आधे घंटे बाद भगवान के निकट पहुँच पाए| वहाँ से निकले तो सोचे जलपान कर लूँ| किसी जाने माने होटल में पहुँचे| उस वक्त सभी मेजें भरी थी सो उन्हें क्यू में खड़ा कर दिया गया| कुछ जबरदस्त लोग क्यू में आगे आने की चेष्टा कर रहे थे| अपनी बारी आने पर ही भोजन नसीब हुआ| कुछ देर वहाँ घूमने के बाद दूसरे शहर जाने की इच्छा हुई| ट्रेन से जाना था तो टिकट कटवाने के लिए वहाँ भी क्यू में लग गए| यहाँ भी जबरदस्त लोग आगे आना चाह रहे थे| किसी तरह टिकट मिली| लोकल ट्रेन थी तो धक्कामुक्की कर के ट्रेन में घुसे| अन्दर बैठने की भी जगह नहीं थी, बेचारे खड़े खड़े ही सफर तय किए| इस तरह घूमते घूमते शाम हो गई| बहुत थकने के बाद अचानक यमराज जी की तबियत खराब हो गई| चित्रगुप्त जी घबड़ा गए| वहाँ आसपास खड़े लोगों से मिन्नतें की कि वे उन्हें हॉस्पीटल तक जाने में मदद करें पर लोगों ने ध्यान नहीं दिया| बेचारे किसी तरह हॉस्पीटल पहुँचे| यहाँ भी लाइन...यमराज जी की तबियत बहुत खराब थी फिर भी क्यू के अनुसार ही चलना था| मन मारकर चित्रगुप्त जी क्यू में खड़े हो गए| तबियत सँभली तो वापस अपने लोक लौट गए|
यहाँ आकर दोनों ने विचार किया कि हमें भी क्यू सिस्टम लागू करना चाहिए| चित्रगुप्त जी महाराज ने लम्बी सी लिस्ट बनाई और सबको क्यू में लगा दिया| पर यह क्या...तत्क्षण ही काउंटर खाली हो गया| जो जबरदस्त लोग पृथ्वी पर आगे आने की चेष्टा करते थे वे यहाँ क्यू में पीछे चले जा रहे थे| बेचारे सिद्धान्तवादी लोग लाइन में लगे थे|
एक दिन चित्रगुप्त जी ने ऑफिस खोला तो एक करीब तेइस साल की लड़की सबसे आगे खड़ी थी| चित्रगुप्त जी ने कहा- बेटी, अभी तुम्हें इस लोक में आने का समय नहीं हुआ है|
लड़की ने हाथ जोड़कर कहा- महाराज, पृथ्वी पर सरवाइवल ऑफ द फ़िटेस्ट का सिद्धान्त चलता है...और मैं वहाँ रहने के लिए फिट नहीं हूँ सो आप मुझे यहाँ बुला लो...सभी लड़कियों को बुला लो|
अरे, ऐसे कैसे...इस तरह तो सृष्टि ही थम जाएगी| दुर्गा जैसी नारी बनो|
किन्तु दुर्गा भी तो साधारण स्त्री ही थीं, शक्ति तो उन्हें भगवान शिव से मिली थी तभी वे आततायियों का विनाश कर पाईं| पृथ्वी पर हमें शक्ति देने वाला कोई नहीं है|
बताओ, तुम्हें किससे शक्ति चाहिए|
न्याय व्यवस्था से, समय पर न्याय न मिल पाने से स्त्रियाँ कमजोर पड़ जाती हैं, ...इसलिए मुझे यहाँ बुला लो|
चित्रगुप्त भगवान सोच में लीन हो गए...लड़की की बातों में दम था, किन्तु वे इस समस्या को सुलझाने में लाचार थे|

ऋता शेखर मधु

10 टिप्‍पणियां:

  1. सख्त क़ानून त्वरित न्याय ही इसका निवारण है,,,

    recent post: वह सुनयना थी,सख्त

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत कुछ कहती है ये कहानी ...
    सोचने को विवश करती ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. यहाँ भी लाचारी.. सोचने को विवश करती सुन्दर कहानी .. ऋता.शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. न्याय व्यवस्था स्त्रिओं के प्रति अत्याचारों के लिये न्याय करने में असमर्थ है. सुंदर कथा के माध्यम से कहानी यही दर्शाती. है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. चित्रगुप्त भगवान् को मान लेना चाहिए .... यही न्याय होगा

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब न्याय नहीं मिलता,न्याय को पाने के लिए इतनी उठा -पटक करनी पड़ती है तभी तो स्त्रिया आवाज उठने से सकपकातीं है...
    अति उत्तम ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. काश की ऐसा हो पाए ...... अब तो न्याय की आशा ही नहीं ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. काश की ऐसा हो पाए ...... अब तो न्याय की आशा ही नहीं ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. न्याय व्यवस्था पर सटीक व्यंग्य रूपी कथा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!