मंगलवार, 8 जनवरी 2013

दो आँखें



दो आँखें

गहरी धुँध
सर्द हवाएँ
ठिठुरा बदन
सन्नाटे रास्ते...
धुँध के पीछे
चमक रहा था कुछ
कोई छुपा था
कौन है वो
आगे बढ़ी
धुँध के साथ
वह भी पीछे खिसका
कैसे देखूँ
धूप गहरायी
धुँध हल्की हुई
रुह पर चिपकी
दो आँखें चमक रही थीं
अनगिनत सवाल लिए
शायद कह रही थी
मैं तो अकेली थी
बहुत दर्द सहा, मगर
बच नहीं पाई
तुम लाखों में हो
मेरी बेचैन रुह को
अब भी बचा लो
इंसाफ़ दिला दो
इंसाफ़ दिला दो
हाथ बढ़ाया कि
सहला दूँ उसके बालों को
पर यह क्या?
वह ग़ायब हो गई
उसे सांत्वना नहीं
सिर्फ़ और सिर्फ़
इंसाफ़ चाहिए था
दिन पूरी तरह चमकने लगा था
पर धुँध अब मन के अन्दर छाया था|
ऋता शेखर मधु

24 टिप्‍पणियां:

  1. आँखों में बेचैनियाँ, काँप दर्द से जाय |
    सांत्वना से आपकी, नहीं रूह विलखाय |
    नहीं रूह विलखाय, खाय ली देह हमारी |
    लाखों लेख लिखाय, बचे पर अत्याचारी |
    है भारत धिक्कार, रेप हों हर दिन लाखों |
    मरें बेटियाँ रोज, देखते अपनी आँखों ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (09-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | अवश्य पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर...
    मन के भीतर छाई धुंध न जाने कब छंटेगी ...

    गहन रचना..
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. जाने कब इंसाफ मिलेगा और ये मन की धुंध हटेगी..
    भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अति सुंदर कृति
    ---
    नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  7. इन्साफ की पूरी उम्मीद भी है और बदलाव की आशा भी.. अब चुनौती हमारे युवा पीढ़ी पर है. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस अब तो इंसाफ ही चाहिए .... संवेदनशील रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब बस इन्साफ ही चाहिए ... वो भी जल्दी चाहिए .. किसी को संघर्ष न करना पड़े ... तभी सार्थक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. उसे सांत्वना नहीं
    सिर्फ़ और सिर्फ़
    इंसाफ़ चाहिए था
    बिल्‍कुल सच

    उत्तर देंहटाएं
  11. उसे सांत्वना नहीं सिर्फ़ इंसाफ़ चाहिए,,,,सुंदर अभिव्यक्ति,,

    recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  12. उसे सांत्वना नहीं सिर्फ़ इंसाफ़ चाहिए,,,, जो उसे कभी भी नहीं मिलने वाला :((
    आपकी रचना ,अद्धभुत अभिव्यक्ति है !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. त्वरित न्याय ही समाधान है।
    सार्थक सामयिक कविता।

    --
    थर्टीन रेज़ोल्युशंस

    उत्तर देंहटाएं
  14. मन की धुंध हटेगी..उम्मीद का दीया जलेगा ही..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!