सोमवार, 29 जून 2015

खिल कर महका मोगरा

ये दोहे अनुभूति पर प्रकाशित हैं|

Image result for बेला फूल

नभ में खिलता चन्द्रमा, नीचे बेला फूल।
कुशल चितेरे ने रचा, लतिका को बिन शूल।।१

खिल कर महका मोगरा, घुली पवन में गंध।
अनुरागी बन अलि कली, बना रहे अनुबंध।।२

जहाँ बसा है मोगरा, वहाँ बसी है प्रीत।
एक पुष्प हँसकर दिया, पुलक गया मनमीत।।३

बेला की हर पाँखुरी, करे तुहिन से बात।
अलसाई सी चाँदनी, सोई सारी रात।।४

नवल धवल बेला करे, शंकर का शृंगार।
पावन तन मन में हुआ, शुभता का संचार।।५

फूला जब भी मोगरा, विरहन हुई उदास।
हृदय हूक से जो भरा, विकल हो गई आस।।६

भर अँजुरी में मोगरा, चल सजनी उस पार।
विष बेलों को काटकर, वहाँ उगाएँ प्यार।।७

आई बेला साँझ की, सूर्य हो गया अस्त।
बगिया में बेला खिला, भ्रमर हुआ अलमस्त।।८

मुठ्ठी में भर चाँदनी, और ओक में गंध।
बेला ने भी रच दिया, मोहक छंद निबंध।।९

शबनम के मोती झरे, कोमल हैं अहसास।
अँखियों में छाई नमी, बना मोगरा खास।।१०

वेणी में बेला गुँथे, रचे महावर पाँव।
डाले कंगना हाथ में, आना मेरे गाँव।।११

- ऋता शेखर 'मधु'
२२ जून २०१५

7 टिप्‍पणियां:

  1. मोगरा खूब खिला दिख रहा है चहुँ ओर.
    ऐसी ही खुशबू इन दोहों में भी!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शबनम के मोती झरे, कोमल हैं अहसास।
    अँखियों में छाई नमी, बना मोगरा खास।

    बहुत सुन्दर
    सभी दोहे सुन्दर..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत दिनों बाद आना हुआ ...सुन्दर दोहे ..!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!