रविवार, 1 जुलाई 2018

ग़ज़ल

2122 1122 22

उल्फतों का वो समंदर होता
पास में उसके कोई घर होता

दर्द उसके हों और आँसू मेरे
प्रेम का ऐसा ही मंजर होता

दिल के जज़्बात कलम से बिखरे
काग़ज़ों पर वही अक्षर होता

मुस्कुराता रहा जो बारिश में
दीन में मस्त कलन्दर होता

सर्द मौसम या तपन सूरज की
झेलता मैं तो सिकन्दर होता
-ऋता

11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (02-07-2018) को "अतिथि देवो भवः" (चर्चा अंक-3018) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर्द मौसम या तपन सूरज की
    झेलता मैं तो सिकन्दर होता
    वाह

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 02 जुलाई 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दर्द उसके हो और आंसू मेरे
    प्रेम का ऐसा ही मंजर होता है
    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह बहुत सुन्दर ऋता जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह बहुत सुन्दर ऋता जी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सर्द मौसम या तपन सूरज की
    झेलता मैं तो सिकन्दर होता
    वाह !!!!!!!! अत्यंत श्रीद्यस्प्र्शी रचना ऋतू जी !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी गजल!
    आपको जन्मदिन की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. निमंत्रण विशेष : हम चाहते हैं आदरणीय रोली अभिलाषा जी को उनके प्रथम पुस्तक ''बदलते रिश्तों का समीकरण'' के प्रकाशन हेतु आपसभी लोकतंत्र संवाद मंच पर 'सोमवार' ०९ जुलाई २०१८ को अपने आगमन के साथ उन्हें प्रोत्साहन व स्नेह प्रदान करें। सादर 'एकलव्य' https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!