गुरुवार, 29 मार्च 2012

सीखा है हमने...


                         



नन्हें मुन्नों संग खिलखिलाना सीखा है हमने
उनकी मासूमियत अपनाना सीखा है हमने|१|

मिट गए सारे रंजो-गम पल भर के लिए
उनसे सच्चाई आज़माना सीखा है हमने|२|

अहं को परे रख दिया दोस्ती के लिए
उन-सा ही सब कुछ भुलाना सीखा है हमने|३|

चोट लगी ज़ार ज़ार रो पड़े थे हम
रोते-रोते हँसने की कला भी सीखा है हमने|४|

कागज़ों पर आड़ी सीधी रेखाएँ खींचते हैं वो
उनसे उल्टे सीधे शब्द सजाना सीखा है हमने|५|

भा जाती हैं बच्चों की चुलबुली आँखें
गंभीरता के बीच शरारतें  भी सीखा है हमने|६|

ग़ल्तियाँ हो जाएँ सर झुका लेते हैं वो
उनसे भूल को स्वीकारना सीखा है हमने|७|

घंटी लगी, आजादी का शोर गूँजा
उनके बीच अपना सुर मिलाना सीखा है हमने|८|

ऋता शेखर मधु

9 टिप्‍पणियां:

  1. होशियारी सीखी या नहीं
    अनाड़ी हो कि नहीं ... इससे परे
    बच्चे बन जाओ
    मिलजुल रहो , हंसो , मासूम सपने देखो
    न किसी ध्यान की ज़रूरत होगी
    न योग की ... बचपन है तो सब है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजादी का शोर गूँजाउनके बीच अपना सुर मिलाना सीखा है हमने|
    बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन भाव,...

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक और खुबसूरत प्रस्तुति ।

    सही है बच्चों की मासूमियत ।

    उनसे सीखने की जरुरत है हमें ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों का सा निर्मल मन ...काश हम कुछ सीख सकें ....अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ा सुख है बच्चा बने रहने में....

    बहुत सुन्दर भावनाएं ऋता जी.

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अनुपम भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ग़ल्तियाँ हो जाएँ सर झुका लेते हैं वो
    उनसे भूल को स्वीकारना सीखा है हमने|७|
    sahi bat .

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!