गुरुवार, 6 सितंबर 2012

दूजा धन लागे भला,खरच किया बिन मोह-दोहा ग़ज़ल




माता-पिता वृद्ध हुए, पुत्र समंदर-पार
बना आज दस्तूर यही, छिन जाता आधार|

बरगद की छाया बने, छौने पर दिन-रात
कुलाँचे भर भाग चला, भूला ममता-प्यार|

बूढ़ी काया है विकल, लगी द्वार पर आँख
कुल-दीपक के वास्ते, देखे पंथ निहार|

दूजा धन लागे भला, खरच किया बिन मोह
निज- धन पर गाँठ सत्तर, माया मोह अपार|

तन्हा राहों पर मिले, चन्द कदम का साथ
बिन अहं के साथ चलो, यह जीवन का सार|

ऋता शेखर मधु

16 टिप्‍पणियां:


  1. बहुत बढ़िया बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    उत्तर देंहटाएं
  2. तन्हा राहों पर मिले, चन्द कदम का साथ
    बिन अहं के साथ चलो, यह जीवन का सार|

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ रची हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर ऋता जी....
    आत्मसात कर लिए सभी दोहे..

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. तन्हा राहों पर मिले, चन्द कदम का साथ
    बिन अहं के साथ चलो, यह जीवन का सार|
    बहुत ही बढिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (08-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तन्हा राहों पर मिले, चन्द कदम का साथ
    बिन अहं के साथ चलो, यह जीवन का सार|
    सही कहा आपने..
    बहुत बढ़िया रचना,...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

  7. बूढ़ी काया है विकल, लगी द्वार पर आँख
    कुल-दीपक के वास्ते, देखे पंथ निहार|
    नै प्रयोग भूमि खंगाली है ,दोहा गजल रुदाली है .

    शुक्रवार, 7 सितम्बर 2012
    शब्दार्थ ,व्याप्ति और विस्तार :काइरोप्रेक्टिक

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर !
    बिन अहं के साथ चलना
    कितना मुश्किल हो जाता है
    चारों और अहं का झंडा
    जब लहराता है
    खुदद का सोया अहं ऎसे
    में उठ के जाग जाता है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बूढ़ी काया है विकल, लगी द्वार पर आँख
    कुल-दीपक के वास्ते, देखे पंथ निहार..

    सच है ... ऑंखें तो माँ बाप की द्वार पे ही लगी रहती हैं ... पर कई बार कुल दीपक मद में भूल जाते हैं ... सार्थक लेखन ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप की ये खूबसूरत रचना शुकरवार यानी 8 फरवरी की नई पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...
    आप भी इस हलचल में आकर इस की शोभा पढ़ाएं।
    भूलना मत

    htp://www.nayi-purani-halchal.blogspot.com
    इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है।

    सूचनार्थ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!