रविवार, 13 जनवरी 2013

उस दीपक सी हो पावन तुम




इन मेघों की हो सावन तुम
इस बगिया की मनभावन तुम
जले रात्रि-मध्य देवालय में
उस दीपक सी हो पावन तुम

चंचल हवा सुहावन तुम
मीरा की वृंदावन तुम
इस रस्ते जो पतित हुए
हो करती उनको पावन तुम

प्राची किरण लुभावन तुम
प्रात: की सजावन तुम
मन जो मेरा डूब गया
उस सोच की हो प्लावन तुम...

...
..
1Unlike ·  · 

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति सोमवार के चर्चा मंच पर ।। मंगल मंगल मकरसंक्रांति ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारी कविता....
    बावन अट्ठावन तुम :-)
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्राची किरण लुभावन तुम
    प्रात: की सजावन तुम
    मन जो मेरा डूब गया
    उस सोच की हो प्लावन तुम...

    बहुत सुंदर ...उत्तम शाब्दिक अलंकरण लिए पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    मकर संक्रान्ति के अवसर पर
    उत्तरायणी की बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर भाव लिए कविता .... आभार यहाँ सांझा करने के लिए

    उत्तर देंहटाएं


  6. ✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥
    ♥सादर वंदे मातरम् !♥
    ♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿


    इन मेघों की हो सावन तुम
    इस बगिया की मनभावन तुम
    जले रात्रि-मध्य देवालय में
    उस दीपक सी हो पावन तुम

    अच्छी रचना है ...

    आदरणीया ऋता शेखर मधु जी
    आपने स्पष्टतः तो नहीं लिखा ,अनुमान ही है मेरा , कि यह रचना आपके सुपुत्र की है संभवतः ...
    बधाई है !
    प्रयास अच्छा है ...
    भाव बहुत सुंदर हैं रचना के ...
    शिल्प कसावट मांग रहा है ।
    सध जाएगा ...
    लिखते रहें … और श्रेष्ठ लिखते रहें …
    :)


    हार्दिक मंगलकामनाएं …
    लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. लाजवाब कविता. सुंदर भाव.

    मकर संक्रांति व लोहड़ी की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब ,,,
    काफी सुंदर पंक्तियाँ ...

    मंगल मकरसंक्रांति की शुभकामनाएँ !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  10. चंचल हवा सुहावन तुम
    मीरा की वृंदावन तुम
    इस रस्ते जो पतित हुए
    हो करती उनको पावन तुम

    मृदुल शब्दों की मधुर गुंजन, वाह भई वाह !!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति। निस्संदेह जिसने लिखा है, और जिसके लिए लिखा है, वो स्नेह लबालब छलक रहा है इस कविता में ..
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस पावनता को जिसने देख लिया ,समझ लिया ......... वह समुद्र की गहराई को मन के अन्दर संजो लेता है - मेरा आशीष तुम्हारे इस पवन दृष्टिकोण को

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही प्यारी रचना ...बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!