शनिवार, 30 मार्च 2013

मेरी खिचड़ी तेरी खिचड़ी


एक साधु बाबा किसी गाँव में पहुँचे| गाँववाले बड़े खुश हुए| सभी उनके दर्शन के लिए बेताब हुए जाते थे| साधु बाबा ने कहा कि वे कल सुबह आएँगे और सबके घरों की बनी खिचड़ी खाएँगे| गाँववाले उत्साहित हो गए| सबने बहुत मन से खिचड़ी पकाई| गाँव में सभी जाति और सम्प्रदाय के लोग रहते थे| दूसरे दिन साधु बाबा गाँव में पधारे| सभी चाहते थे कि वे उनकी खिचड़ी खाएँ| साधु बाबा सबके मन की बात समझ रहे थे| उन्होंने कहा, सबकी खिचड़ी मिला दी जाए तब वे खाएँगे| सभी संप्रदाय के लोग अपनी खिचड़ी को स्वादिष्ट मान रहे थे| पर बाबा जी की आज्ञा थी सो खिचड़ी मिला दी गई| सबके चेहरे से मायूसी झलक रही थी| इसे देख साधु बाबा ने कहा कि उस इकट्ठी खिचड़ी से सब अपनी अपनी खिचड़ी अलग कर लें| अब भला सबकी खिचड़ी अलग कैसे हो सकती थी| सबने कहा कि हम सब मिलकर इसे खाएँगे| अपनी खिचड़ी को सबसे स्वादिष्ट साबित करने का विचार सबके मन से निकल चुका था इसलिए सभी तनावमुक्त थे| सबने मिलजुल कर खिचड़ी खाई और साधु बाबा जो संदेश देना चाहते थे उसमें सफल रहे|
एकता और भाइचारा में जो खुशी है वह सबकी समझ में आ चुका था|

....ऋता शेखर मधु

12 टिप्‍पणियां:

  1. samajik shauhardr aur samrasta ke shadhubad se nirmit swadist khidadi

    उत्तर देंहटाएं
  2. एकता की भावना और प्रेम के सन्देश से पूर्ण रचना ,बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कहानी ... सामाजिक एकरसता का पाठ पढाती ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम का सार्थक संदेश देती उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक संदेश देती बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर लघुकथा
    सकारात्मक संदेश

    उत्तर देंहटाएं
  7. कोई तो हो राह दिखाने वाला..

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम का सार्थक संदेश देती सुंदर बोधकथा..

    उत्तर देंहटाएं
  9. गहन अनुभूति प्रस्तुति सहज सार्थक रचना
    बहुत बहुत बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    मुझे ख़ुशी होगी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!