बुधवार, 25 सितंबर 2013

मन की किताब




मन की किताब
कुछ खुले पृष्ठ
कुछ अधखुले से
कुछ मुड़े तुड़े
कुछ बन्द से

खुले पन्ने
शब्द-शब्द कहें
एहसास की कोमलता
जीवन की मधुरता
उत्साहित लम्हे
खिलती कलियाँ
उड़ती तितलियाँ
बासंती बहारें
ठंढी फुहारें
कलकल नदिया
चमचम सितारे
शीतल चाँदनी
मधु यामिनी

अधखुले कहें
वैसे सपने
जो हुए न अपने
काली बदरिया
रुपहली रेखाएँ
अरुण की लालिमा
अस्त की कालिमा
थिरकते कदम
बोझिल सा मन
दोपहर का साया
बरगद की छाया
परियों की उड़ान
दानव की माया
उत्साह से लेकर
नैराश्य तक
हर रंग के शब्द

मुड़े तुड़े पन्ने
कहानियाँ संघर्ष की
ठोकरों की
अपमान की
तिल तिल जलने की
लम्हा लम्हा सुलगने की
शूल के चुभन की
जीवन के थकन की
गिरि पर चढ़ने की
चढ़कर लुढ़कने
फिर से सँभलने की
चाहकर भी
सीधे नहीं हो पाते
मुड़े तुड़े पृष्ठ

बन्द पन्ने
अनुत्तरित प्रश्न
अनसुलझी गाँठें
कुछ कोरे पृष्ठ भी
जहाँ अंकित होंगे
भविष्य के इंद्रधनुष|
...ऋता

18 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (26-09-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 128" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है कमाल की रचना ….इत्ने सुन्दर बिम्ब दिए हैं आपने … हैट्स ऑफ इसके लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन की किताब में तो बहुत कुछ छुपा होता है..
    सुंदर , भावपूर्ण रचना....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन में तो बहुत कुछ छुपा होता है सुंदर अभिव्यक्ति !

    नई रचना : सुधि नहि आवत.( विरह गीत )

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी यह प्रस्तुति 26-09-2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह...
    बहुत प्यारी कविता है दी...
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर अभिव्यक्ति .खुबसूरत रचना
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुल मिलाकर छोटे में कहें तो ..आपकी पुस्तक 'हिंदी हाइगा'। :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर बिम्ब से मन को अभिव्यक्त किया ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच! बहुत कुछ लिखा होता है इस मन की किताब में। सटीक और सुन्दर रचना/

    सादर,
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन की इस किताब में इतने राज छुपे होते हैं ... तभी तो इन्हें अकेले में पढ़ना चाहिय ... भावपूर्ण ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!