रविवार, 29 दिसंबर 2013

तुम रहोगे दिल में हमारे...

अलविदा २०१३
स्वागतम् २०१४

नींद भरी आँखें
सहला रहा कोई
टपकी है गालों पर
इक बूँद नन्ही सी

मैं जा रहा हूँ
करोगे न याद मुझे
साथ रहा है
तीन सौ पैंसठ दिनों का

मुझे याद रहेगी
तुम्हारी छुअन
पलट देते थे पन्ने 
हर पहली तारीख़ को

देखते थे
महीने की छुट्टियाँ
सारे व्रत त्योहार
और दूध का हिसाब

लगाते थे निशान
कब गैस बदली
कब आएगी बेटी
कब किसका है दिन खास

कैसे भूलूँगा मैं
जन्मदिन तुम्हारा
वर्षगाँठ शादी की
सी एल की तारीखें

कैसे भूल पाऊँगा
तुम्हारी आतुर आँखें
सैलरी के लिए
महीने का बदलना

फिर से सहलाया कैलेंडर ने
करोगे न याद मुझे
माना कि दी हैं हमने
कुछ कड़वाहटें भी

पर दिया है साथ में
पगडंडियाँ भी
गुलमोहर भी खिले
शब्दों से संबाद हुआ

आँखें हमारी नम हो गईं
तुम रहोगे दिल में हमारे
कहीं कोई शिकवा नहीं
न ही है कोई मलाल

खुशी खुशी जाओ मेरे भाई
सहेज कर रखेंगे
हर चहकता लम्हा
तुम्हारी सूर्य रश्मियाँ

धरती २०१३ की 
विस्तार नभ का २०१४
करना मुट्ठी में संसार
मिलेंगी खुशियाँ अपार...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ !!
..............ऋता




11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर और प्यारी रचना...
    नववर्ष कि अग्रिम शुभकामनाएँ ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया रीना...नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!

      हटाएं
  2. दिल से कुछ भी नहीं जाता ... फिर जो ताज़ा है जैसे की २०१३ वो तो कभी नहीं जाएगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत प्यारी रचना....
    नए साल की शुभकामनाएं दी.....खुशियों की सौगात लाये ये नववर्ष!!!
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन 'निर्भया' को ब्लॉग बुलेटिन की मौन श्रद्धांजलि मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (30-12-13) को "यूँ लगे मुस्कराये जमाना हुआ" (चर्चा मंच : अंक-1477) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ..सुंदर कविता के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बहुत ही खूबसूरत रचना.. ऋता,,नए साल की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!