बुधवार, 27 जुलाई 2016

सुराख वाले छप्पर - लघुकथा

सुराख वाले छप्पर 

कॉल बेल बजते ही मिसेज तनेजा दरवाजे पर पहुँचीं| बगल के फ्लैट की नई पड़ोसन मिसेज भल्ला थीं| हाथ जोड़कर नमस्ते बोलते हुए मिसेज तनेजा ने उन्हें ड्राइंग रूम में बैठाया और हँस हँस कर बातें करने लगीं| सौम्य मिसेज भल्ला सिर्फ मुस्कुराकर थोड़े शब्दों में जवाब दे रही थीं|

“ पता है मिसेज भल्ला, सामने वाली मिसेज वर्मा ने अपनी सास को वृद्धाश्रम में छोड़ रखा है| पति पत्नी दोनों सुबह काम पर निकल जाते हैं| उनका कहना है कि वे सास को किसपर छोड़ें| किसी कामवाली पर छोड़ने से अच्छा है वृद्धाश्रम में रखना| ये कोई बात हुई भला, क्या जमाना आ गया है”, मिसेज तनेजा बोले जा रही थीं|
मिसेज भल्ला ने धीरे धीरे कहना शुरु किया|

” मेरी सास नहीं हैं| मेरा छोटा सा बेटा दोस्तों से सुन सुन कर दादी को देखना चाहता था| कल मैं उसे वृद्धाश्रम लेकर गई| मेरे साथ मिसेज वर्मा भी थीं| उन्होंने सास के लिए बहुत सारा सामान ले रखा था| वृद्ध महिलाओं ने बेटे से खूब लाड़ लगाया| वहीं बिस्तर पर पड़ी एक वृद्धा ने बताया कि उनकी बहु घर में रहती है फिर भी मैं यहाँ रहती हूँ| मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूँ कि वह हमेशा खुश रहे जिससे मेरा बेटा और पोता खुश रहें| उनके हाथों में एक फोटो ले रखा था जो वह था| ’’ शो केस में लगे मिसेज तनेजा के परिवार की फोटो की ओर इशारा किया मिसेज भल्ला ने|

मिसेज तनेजा के पीले पड़ते चेहरे को देखकर मिसेज भल्ला चुपचाप बाहर निकल गईं|

--ऋता शेखर ‘मधु’

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 28 . 07. 2016 को चर्चा मंच पर
    चर्चा - 2417
    में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक प्रतिक्रिया
    शब्द ही नहीं मेरे पास

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 'श्रद्धांजलि हजार चौरासी की माँ को - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!