गुरुवार, 31 अगस्त 2017

आकलन-लघुकथा

आकलन
स्कूल जाने के लिए रेवा बस स्टॉप पर पहुँच चुकी थी| वहाँ पहुँच कर पता चला कि उस दिन बस हड़ताल थी| अब क्या करे रेवा| तभी अत्याधुनिक कपड़ों मे स्कूटी चलाकर जाती हुई एक महिला दिखी| उसने लिफ्ट के लिए हाथ दिया| स्कूटी वहाँ पर रुकी|
''क्या आप मुझे जीरो माइल तक लिफ्ट देंगी| मैं वहाँ से पैदल ही स्कूल चली जाऊँगी| आज स्कूल में एक महत्वपूर्ण आयोजन है और जाना जरूरी है| ''
वह रेवा के ढीले ढाले सलवार समीज को देखकर उसके स्तर का अंदाज लगा रही थी| फिर ''समय नहीं'' कहती हुई फर्राटे से निकल गई|
अभी रेवा ने दूसरी सवारी की ओर देखना शुरु ही किया था कि धम से आवाज सुनाई दी | रेवा ने पलट कर देखा|
''अरे , यह तो वही है'' सोचती हुई वह उस तरफ बढ़ी| सड़क पर बड़ा सा पत्थर था और स्कूटी शायद उसी से टकरा गई थी| उसे सिर पर जोर से चोट लगी थी इसलिए थोड़ी बेहोशी थी शायद| रेवा ने अपने बैग से पानी का बॉटल निकाला और उसे पिलाया| चेहरे पर पानी के छींटे भी दिए| धीरे धीरे उसने आँखें खोली|
''चलिए, आपको घर छोड़ दूँ,''रेवा ने उसे सहारा देते हुए उठाया|
''मैं चली जाऊँगी''
''नहीं, आप स्कूटी पर बैठें , मैं चलाकर ले जाऊँगी' 'रेवा ने सख्ती से कहा|
वह पीछे बैठ गई|
''मेरी स्कूटी खराब थी इसलिए...'' उसकी प्रश्न भरी नजरों को समझ कर रेवा ने मुसकुरा कर स्वयं ही कह दिया|
-ऋता शेखर 'मधु'

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 01 सितम्बर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-09-2017) को "सन्तों के भेष में छिपे, हैवान आज तो" (चर्चा अंक 2714) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’रसीदी टिकट सी ज़िन्दगी और ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाह्य रूप व पहनावे से किसी को आँकना कितना गलत हो सकता है, इसका सुंदर उदाहरण पेश करती कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आकलन कपड़ों से !
    सुधा मूर्ति जी भी ऐसी परिस्थिति झेल चुकी हैं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर!
    प्रेरक और विचारणीय लघुकथा।
    बधाई एवं शुभकामनाऐं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बढ़िया लघुकथा,सीख देती हुई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!