मंगलवार, 11 जून 2013

कोमल हाथ चुभ गए थे काँच


ताँका........विश्व बाल श्रम दिवस पर-१२ जून

बालक रोया
बस्ता चाहिए उसे
है मजबूर
दिल किया पत्थर
बनाया मजदूर|१|

कोमल हाथ
चुभ गए थे काँच
बहना रोई
भइया आँसू पोंछे
दोनो कचरे बिनें|२|

दिल के धनी
राजा औ' रंक बच्चे
देख लो फ़र्क
एक खरीदे जूता
पोलिश करे दूजा|३|

गार्गी की बार्बी
कमली ललचाई
माँ ने पुकारा
बिटिया, इधर आ
बर्तन मांज जरा|४|

कठोर दिल
कैसी माता है वह
काम की भूखी
बेटी को देती मैगी
कम्मो को रोटी सूखी|५|

........ऋता शेखर 'मधु'

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया ऋता दी.....
    बेहद सार्थक और सशक्त रचना...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह पोस्ट आज के (१२ जून, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - शहीद रेक्स पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. अक्षरश: सार्थक है यह रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी रचना, समाज को झकझोरने वाली
    बहुत सुंदर


    मीडिया के भीतर की बुराई जाननी है, फिर तो जरूर पढिए ये लेख ।
    हमारे दूसरे ब्लाग TV स्टेशन पर। " ABP न्यूज : ये कैसा ब्रेकिंग न्यूज ! "
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/06/abp.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. गार्गी की बार्बी
    कमली ललचाई
    माँ ने पुकारा
    बिटिया, इधर आ
    बर्तन मांज जरा ..

    कितने बचपन ऐसे ही वीरान हैं आज ... आज के दिन के लिए लिखे सार्थक तांका ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. कडवे सच को कहते तांका ॥ मार्मिक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया रचना !
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोमल हाथ
    चुभ गए थे काँच
    बहना रोई
    भइया आँसू पोंछे
    दोनो कचरे बिनें..

    आभार एक अच्छे भाव सम्प्रेषण के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह प्रस्तुति कल चर्चा मंच पर है
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!