गुरुवार, 2 जनवरी 2014

गुलाब...



नए वर्ष की प्रथम पोस्ट के रूप में गुलाब पर आधारित रचना पेश है.....आप सभी का जीवन गुलाब जैसा कोमल हो और गुलाब की खुश्बू जैसे रिश्ते अपनी सुगंध  बिखेरते रहें...शुभकामनाएँ सभी को !!

गुलाब......

खुश्बू संग रंग भी देखो|
जीवन की तरंग भी देखो|
बीच कंटकों के पनप रहा,
गुलाब की उमंग भी देखो|

फूल देते हाथ भी देखो|
दोस्तों का रुआब भी देखो|
किया है स्वीकार जब इसको,
निभाने का ख्वाब भी देखो|

चाचा की लिबास भी देखो|
सुरभित एहसास भी देखो|
गुलाब से कोमल हों बच्चे
जवाहर की आस भी देखो|

पुष्प की मधुर ताजगी भी देखो|
काँटों की नाराजगी भी देखो|
देवताओं के शीश है सोहता,
गुलाब की पाकीज़गी भी देखो|

................ऋता

आ० दिगम्बर नासवा सर...मैं आपकी पोस्ट पढ़ती तो हूँ पर कमेंट नहीं दे पा रही क्योंकि मैं गूगल+ पर नहीं हूँ...यदि आप मेरी इस रचना पर आते हैं तो आपसे निवेदन है कि साधारण वाला कमेंट बॉक्स लगाएँ अपने ब्लॉग पर...साभार !!

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर !
    नववर्ष शुभ हो मंगलमय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुलाब बढ़ाते हाथ भी देखो|
    दोस्तों का रुआब भी देखो|
    स्वीकार किया है जब इसे,
    निभाने का ख्वाब भी देखो|

    वाह , बहुत सुंदर !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पँखुड़ियों की ताजगी भी देखो|
    काँटों की नाराजगी भी देखो|
    देवों के सिर को सोहता,
    गुलाब की पाकीजगी भी देखो |

    नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाए...!
    RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (03-01-2014) को "एक कदम तुम्हारा हो एक कदम हमारा हो" (चर्चा मंच:अंक-1481) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    ईस्वीय सन् 2014 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. गुलाबी मधुर गुंजन ने मन गुलाब गुलाब कर दिया.
    सुन्दर प्रस्तुति.
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ऋतू शेखर जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुलाब की खूबसरती और सुवास ने मन को मोह लिया ...सुन्दर रचना |
    नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |
    नई पोस्ट विचित्र प्रकृति
    नई पोस्ट नया वर्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरत गुलाब की सी महक समेटे पोस्ट |

    उत्तर देंहटाएं
  8. सब तरफ गुलाब की गुलाब होगया..गुलबी रंगत लिए खुबसुरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। । नव वर्ष की हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही प्यारी और सुन्दर रचना...नववर्ष कि बहुत-बहुत शुभकामनाएँ..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!