मंगलवार, 31 मई 2016

हो जाएगा न -- लघुकथा

हो जाएगा न
''उत्कर्ष, उठो बेटा| एयरपोर्ट पर कम से कम एक घंटा पहले पहुँचना होता है| यहाँ से वहाँ जाने में ही एक घंटा लगता है| हमें तीन घंटा पहले निकलना चाहिेए| रास्ते में कोई भी अड़चन आ सकती है|''
''हो जाएगा न माँ|'' अलसाते हुए उत्कर्ष ने कहा|
उत्कर्ष बिल्कुल ही दो घंटे पहले निकला|
हवाईअड्डा जाने के तीन रास्ते थे| सबसे छोटा रास्ता बाई पास से था| उत्कर्ष ने वही लिया| पर यह क्या! वहाँ मरम्मत का काम चल रहा था| उधर से कार ले जाने का रास्ता नहीं था| झट से गाडी़ को दूसरे रास्ते पर ले आया उत्कर्ष जिसमें पन्द्रह मिनट लग गए| वह हड़ताली मोड़ था जहाँ अपनी माँगों को लेकर हजारों की संख्या में हड़तालकर्मी मौजूद थे और आवागमन पूरी तरह से बाधित था|
अब घबराहट से उत्कर्ष के पसीने आने लगे| उसने गाड़ी को पीछे किया और तीसरे रास्ते पर ले गया जिसमें दस मिनट लग गए| चूँकि अन्य दो रास्ते बन्द थे तो तीसरे को जाम होना ही था| पैंतीस मिनट पहले ही देर चुकी थी| जाम में फँसे उत्कर्ष के चेहरे पर माँ की बात नहीं मानने का पछतावा झलक रहा था| माँ भी चुप थी| किसी तरह सरकते हुए वे आगे बढ़े| हवाईअड्डा पहुँचने के बाद सिर्फ तीस मिनट बचे थे| भाग दौड़कर उत्कर्ष काउंटर पर गया| लाख मिन्नतों के बाद भी उसे जाने की अनुमति नहीं मिली|
लौट कर वापस आया उत्कर्ष और अपराधी की तरह माँ के सामने खड़ा हो गया|
माँ खुश थी कि उसने समय की कीमत पहचान ली थी|
---ऋता शेखर 'मधु'...

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 01 जून 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. समय की कीमत समझाती हुई एक अच्छी लघु कथा। मुझे पसंद आयी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 'शो मस्ट गो ऑन' को याद करते हुए - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!