बुधवार, 13 दिसंबर 2017

करामात होती नहीं ज़िन्दगी में



निग़ाहों की बातें छुपाने से पहले
नज़र को झुकाए थे आने से पहले

नदी के किनारे जो नौका लगी थी
बहुत डगमगाई बिठाने से पहले

जो आज़ाद रहने के आदी हुए थे
बहुत फड़फड़ाए निभाने से पहले

करामात होती नहीं ज़िन्दगी में
पकड़ना समय बीत जाने से पहले

बहन की दुआ आँक पाते न भाई
कलाई पे राखी सजाने से पहले

दफ़ा हो न जाए सुकूँ ज़िन्दगी का
ऋता सोचना आजमाने से पहले

ऋता शेखर 'मधु'

122*4

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 14 - 12 - 2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2817 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. पकड़ना समय बीत जाने से पहले ...लाजवाब प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या बात है
    सुंदर शब्दों से सजी नायब रचना
    मन को छू गई

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहन की दुआ आँक पाते न भाई, कलाई पे राखी सजाने से पहले....!
    अन्यथा ना लें, पर पूरा इत्तेफाक नहीं हो पा रहा !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया गगन जी, सुधार की कोशिश करती हूँ|

      हटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!