रविवार, 16 सितंबर 2012

मैं बाहर आने से डरता हूँ




मैं तुम्हारे सपनों का सपना
मैं बाहर आने से डरता हूँ
मुझे ख्वाबों में ही रहने दो|
यथार्थ का धरातल है पथरीला
गिरा, चकनाचूर हो जाऊँगा|
जीवन समुद्र के बड़े भँवर में
फँसा, चक्कर खा जाऊँगा|
जीवन पथ है बड़ा कंटीला
चला, लहुलुहान हो जाऊँगा|
जीवन पथ पर खड़े तुंग हैं
टकरा, औंधे मुँह गिर जाऊँगा|
निराशा की घटा है काली
मिली, अश्रु बन टपक जाऊँगा|
विषाद की पीड़ा बड़ी घनेरी
झेल, सुबक सुबक
सिसकी बन जाऊँगा|
जीवन नैया है हल्की फुल्की
डगमग, लहरों में बह जाऊँगा|
मुझे ख्वाबों में ही रहने दो|
मैं बाहर आने से डरता हूँ|


मैं तुम्हारे सपनों का सपना
मुझे ख्वाबों में ही रहने दो|
निर्मम निष्ठुर पल में खिड़की से
झाँक तुम्हे लुभाऊँगा|
किसी घनघोर विषम घड़ी में
आशा की ज्योत जलाऊँगा|
तोड़ असफलताओ की श्रृंखला
मैं जिगीषा बन जाऊँगा|
बर्बर की उग्रता सह-सह कर
निडरता का पाठ पढ़ाऊँगा|
गरल अपमान का पी-पी कर
पीयुष तुम्हें बनाऊँगा|
अभिराम क्षण में विस्मृत पल
स्मरण करा तुम्हें गुदगुदाऊँगा|
जीवन के वानप्रस्थ में
मैं मुमुक्षु बन जाऊँगा|
मुझे ख्वाबों में ही रहने दो||

           ऋता शेखर मधु

8 टिप्‍पणियां:

  1. अभिराम क्षण में विस्मृत पल
    स्मरण करा तुम्हें गुदगुदाऊँगा|
    जीवन के वानप्रस्थ में
    मैं मुमुक्षु बन जाऊँगा|
    मुझे ख्वाबों में ही रहने दो|..सच है सपने हमें सबलता स
    देते है ..बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब |
    आपने पूरी जिंदगी का सार कुछ ही पंक्तियों में परोस दिया |

    सादर नमन |

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक सकारात्मक सोच और उत्साहवर्धन करती सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे सपना ही रहने दो
    सपनों में मैं सबकुछ हूँ
    सपने से परे एक कंकाल
    तुम डरोगे
    मैं सर झुका लूँगा
    ....... मुझे सपना सलोना ही रहने दो.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सपनों की मखमली जमीन यथार्थ के पत्थरों से छली /छिली है !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!