गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

छंदचित्र...एवं...शेरगा






20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचनाएँ व प्रस्तुति!
    चित्र तथा रचनाएँ दोनों एक-दूसरे के पूरक..... :-)
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर

    aagrah hai mere blog main bhi sammlit ho

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीदी सादर प्रणाम आपकी प्रस्तुति का जवाब नहीं, आपका अंदाज निराला है अलग है बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर .... चित्र रचनाओं के अनुरूप

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की ब्लॉग बुलेटिन क्यों 'ठीक है' न !? - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह:बहुत ही सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर दोहे से सजी बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आँखों में हो कायनात की रंगीनियाँ तो क्या है असम्भव
    सूरज चाँद,चाँद सूरज होता है आसमान में

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रिताजी ...जीवंत हाइगा..!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!