शुक्रवार, 21 जून 2013

बारिश का मौसम सुहाना है


बारिश का मौसम सुहाना है
पावस ने छेड़ा तराना है

काँधे सजते झूलते काँवर
भजनों में शिव-गुण को गाना है

सुंदर पत्ते बेल के लाओ
शिवशंकर जी पर चढ़ाना है

सावन में चुनरी हरी लहरी
हाथों में लाली रचाना है

बच्चे पन्ने फाड़ते झटपट
धारा में किश्ती चलाना है

चूड़ी धानी सी खरीदे वे
परिणीता को जो लुभाना है

पानी है तालों तडागों में
मेढक को हलचल मचाना है

मंथर मंथर चल रही गंगा
तट पे शायद कारखाना है

पनपीं बेलें जात मज़हब की
सद्भावों के बीज पाना है


..........ऋता

10 टिप्‍पणियां:

  1. सुहाने मौसम की मनभावन रचना....

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(22-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वारिश का मौसम परेशानियों का सबब तो बनता है परन्तु मन में जो उमंग जगाता है वह भी अदभुत होती है.

    सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब .. बारिश आती है न सिर्फ मौसम ले कर बल्कि प्रेम की उमंग भी लाती है ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. barish ki bunde apne sang kitni tarange lati hai....bundon ki tarah sukhad abhiwyakti..

    उत्तर देंहटाएं
  6. barish ki bunde apne sath kitni tarange lati hai....khubsurat abhiwyakti..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!