बुधवार, 2 अक्तूबर 2013

सुनहरे ख्वाबों ने पकड़ बनाई है...

आज डालियाँ फिर झूम के लहराई हैं
खुश्बू-ए- उल्फत फिजा में छाई है

रब ने कुबूल कर ली दुआ उसकी
सुनहरे ख्वाबों ने पकड़ बनाई है

बरगद की छाया मिलती नहीं है अब
क्या करें यह भी बना बोनसाई है

धूप की तपन को क्यूँ हम दोष दें
बिन उसके ऊर्जा भी तो नहीं समाई है

यह उनकी मुस्कुराहटों का ही कमाल था
हजार जुगनुओं की चमक मुख पे छाई है

.........ऋता

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (03-10-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 135" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-03/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -15 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीया सादर प्रणाम |
    कहतें हैं देखने वालो की आँखों में खूबसूरती बसती हैं ,उर्दू के मीथे शब्दों ने खूबसूरतीकों अदभुत बयाँन किया हैं |
    बाटनी की भाषा में ,शब्दों ने तो जादू ही कर दिया ................खूबसूरत रचना |
    “महात्मा गाँधी :एक महान विचारक !”

    उत्तर देंहटाएं
  4. बरगद की छाया मिलती नहीं है अब
    क्या करें यह भी बना बोनसाई है ..

    क्या लाजवाब सेर है ... आज के सच को लिखा है ... भावपूर्ण ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्कृष्ट प्रस्तुति
    www.sriramroy.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह..बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति...
    सुन्दर...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

  7. "यह उनकी मुस्कुराहटों का ही कमाल था
    हजार जुगनुओं की चमक मुख पे छाई है"
    बहुत भावपूर्ण पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!