बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

क्षितिज पे धरा ही है, फ़लक को झुका रही-अनुष्टुप छंद



किसी की बेबसी का तो,  मजाक न उड़ाइए|
न आप भी विधाता के,  निशाना बन जाइए|१|

सोच समझ के ही तो, उंगलियाँ उठाइए|
आपकी ओर भी हैं ये, इसे न भूल जाइए|२|

है उपदेश आसान,  सबने हँस के  दिए|
जो बात खुद पे आई, समंदर बहा दिए|३|

ज्ञान की ही पिपासा थी, कहनी कुछ बात थी|
'इटरनेट' देखा तो,   साहित्य का दरिया था|४|

लदे वृक्ष फलों से जो,   सदा ही वे झुके रहे||
क्षितिज पे धरा ही है, फ़लक को झुका रही|५|

ऋता शेखर 'मधु'

14 टिप्‍पणियां:

  1. सोच समझ के ही तो, उंगलियाँ उठाइए|
    आपकी ओर भी हैं ये, इसे न भूल जाइए|२|

    जी हाँ, गहरी बात लिए पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. है उपदेश आसान, सबने हँस के दिए|
    जो बात खुद पे आई, समंदर बहा दिए|... आसान है बोलना , चलना तो कठिन हो जाता है :) थक जाता है आदमी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति,बेहतरीन रचना,...

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति,बेहतरीन रचना,...

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. है उपदेश आसान, सबने हँस के दिए|
    जो बात खुद पे आई, समंदर बहा दिए|३|………………सत्य कहती सार्थक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति,बेहतरीन रचना,...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोच समझ के ही तो, उंगलियाँ उठाइए|
    आपकी ओर भी हैं ये, इसे न भूल जाइए|२|

    ....बिलकुल सच...बहुत गहन और सटीक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहरी बात कह दी... बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं

  9. सोच समझ के ही तो, उंगलियाँ उठाइए|
    आपकी ओर भी हैं ये, इसे न भूल जाइए|२|
    -यही समझ में आ जाय तो क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्षितिज पे धरा ही है, फ़लक को झुका रही|५|

    बहुत सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!