गुरुवार, 18 अक्तूबर 2012

रिश्तों को मजबूत बनाते हैं हमारे रीति रिवाज



रिश्तों को मजबूत बनाते हैं हमारे रीति रिवाज

रिश्तों का बंधन अटूट होता है किन्तु इनमें भी ताजगी बनाए रखने में कुछ परम्पराओं की अहम भूमिका होती है| भारत उत्सव प्रधान देश है| साथ ही रीति रिवाजों का भी देश है जो ढीले होते रिश्तों को पकड़ प्रदान करता है| ये रिवाज रिश्तों को अहमियत देते हैं दिखावों को नहीं| घर में नए सदस्य का आगमन अपार खुशियाँ लाता है| बच्चे के जन्म की खुशी धूमधाम से मनाई जाती है| उत्तर भारतीय परिवारों में बच्चे के जन्म के छह दिनों बाद छठी(जन्मोत्सव) का रस्म मनाया जाता है| जन्म से लेकर छट्ठी तक बच्चा पुराने कपड़ों में रहता है| छठी के दिन शाम को उसे नए पीले वस्त्र- पाजामा, कुर्ता, टोपी  पहनाई जाती है| हाथ-पैरों में लाल या काले धागे पहनाए जाते हैं| जहाँ पर छट्ठी पूजन का कार्यक्रम होना है वहाँ पर बच्चे की माँ से कुछ रस्में करवाई जाती हैं| वहीं पर एक पीढ़ा( काठ की बनी छौटे पैरों वाली चौकी) रखी जाती है| पीले कपड़े में लपेटकर बच्चे को उसपर रखा जाता है| बच्चे के ऊपर सफेद कागज रखकर उसपर लाल कलम से कुछ भगवानों के नाम लिखे जाते हैं, ऐसा माना जाता है कि वे भगवान बच्चे के लिए अच्छी किस्मत लिखेंगे| उसके बाद घी का दीपक जलाकर चाँदी, काँसे या पीतल की थाली पर उसकी कालिख मतलब काजल बनाई जाती है| वही काजल बच्चे की आँखों में लगाया जाता है| ये सारे कार्यक्रम बच्चे की बुआ के हाथों सम्पन्न होते हैं|
 उसके बाद जो भी दस- पन्द्रह तरह के पकवान बनते हैं वह बच्चे की माँ को खाने के लिए दिए जाते हैं और यह खाना वह ननद के साथ खाती है|
अभी हाल में ही पड़ोस में छठी में गई थी| सारी तैयारियाँ हो चुकी थीं| किन्तु रस्म शुरु नहीं किए जा रहे थे क्योंकि बच्चे की बुआ अर्थात घर की बेटी अर्थात बच्चे के पापा की बहन नहीं आई थी| उसका बेसब्री से इन्तजार किया जा रहा था| उस लड़की की समस्या यह थी कि ससुराल से मायके आने की इजाजत उसे कम ही मिलती थी| दोनों परिवार समझदार थे इसलिए इस बात को लेकर उनमें कोई रंजिश नहीं थी| चूँकि वह बच्चे की इकलौती बुआ थी इसलिए उसे आना ही आना था| अचानक सुगबुगाहट हुई कि बुआ आ गई| पूरा घर खुशियों से चहक उठा| माता पिता भाई सबके चेहरे पर रौनक आ गई| जो घर अभी तक खामोश नजर आ रहा था वहाँ बिटिया के आते ही बहार आ गई| बेटी भी दौड़कर अपने नन्हे भतीजे के पास गई| उसने खुशी खुशी सारा रस्म किया| बिटिया को काजल पराई के लिए नेग मिला| इस तरह बड़े ही हँसी-खुशी के माहौल में यह उत्सव सम्पन्न हुआ| उस वक्त मैं यही सोच रही थी कि हमारे रिवाजों ने बेटी के इस रिश्ते को इतने जबरदस्त रस्मों से न बाँधा होता तो उस समय वह कभी नहीं आती| ऐसे अनेक रिवाज हैं जो बेटी, बहन, भाई, भाभियों के ही होते हैं और उस वक्त उनका उपस्थित रहना अनिवार्य होता है| तो क्या ख्याल है आपका...रस्म-रिवाज रिश्तों को बाँधकर रखते हैं या नहीं|
ऋता शेखर 'मधु'

21 टिप्‍पणियां:

  1. सच है.हमारे रस्म-रिवाज रिश्तों को बाँधकर ही रखते हैं ..बहुत बढ़िया पोस्ट..ऋता.नवरात्रि की शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिलकुल सही कहा ऋता जी.....हर रिवाज़ के पीछे कोई प्यारी सी सोच है...रिश्तों को बाँधने की या उन्हें और सुदृढ़ करने की...जैसे मालवा में भई के साथ भावज और भतीजे को भी राखी बांधते हैं....क्यूंकि भई बहन के रिश्ते में भावज की सहमती और स्नेह कितना ज़रूरी है ...
    प्यारी सी पोस्ट
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेशक...रस्म-रिवाज रिश्तों के डोर को एक चादर में पिरोकर रखते हैं |
    इसिलए तो कहते हैं कि "रिश्ते,जिंदगी के लिए होते हैं,जिंदगी रिश्तों के लिए नही"

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिवाजों में अपनत्व की मिठास और खुशबू होती है

    उत्तर देंहटाएं
  5. रीति रिवाज रिश्तों को समृद्ध कराते हैं ... सुंदर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिल्कुल ...हमें जोड़कर रखते हैं ये रीत रिवाज़......

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिल्कुल ...हमें जोड़कर रखते हैं ये रीत रिवाज़......

    उत्तर देंहटाएं
  8. रिवाजों की डोर से रिश्ते मजबूती से बंधे होते हैं ...सही है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. रीति-रिवाज ही है जो हम सब को अलग होते हुए भी एक ही डोर में कहीं न कहीं बाधें हुए है

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (20-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ! नमस्ते जी!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सच कहा है..रीति रिवाज़ रिश्तों में प्रगाढता पैदा करते हैं, लेकिन आज कल हम सब इन रीति रिवाजों को भूलते जा रहे हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रशंसनीय एवं गूढ़ प्रस्तुति। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं बिल्कुल इस बात से सहमत हूं।
    रीति रिवाज ही आपको अपनी जड़ों से जोड़े रखने का काम भी करते हैं।
    सार्थक लेख,

    उत्तर देंहटाएं
  14. किसी तकनीकी वजह से ब्लॉग :

    कहलाने एकत बसें ,अहि ,मयूर ,मृग ,बाघ जगत तपोवन सा हुआ ,दीरघ दाघ ,निदाघ
    …कबीरा खडा़ बाज़ार में खुल नहीं रहा है कृपया इसी पोस्ट को यहाँ पढ़ें ,वायदा है आपको निराशा नहीं होगी

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    शुक्रवार, 19 अक्तूबर 2012
    कहलाने एकत बसत ,अहि ,मयूर ,मृग ,बाघ जगत तपोवन सो कियो ,दीरघ दाघ ,निदाघ

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    अग्रिम शुक्रिया पधारने का .

    वीरुभाई ,कैंटन ,मिशिगन ,यू .एस .ए .


    कोई रोको रे स्पैम बोक्स बुलाये रे ,

    टिपण्णी दबाके खाए रे .....


    रिश्तों को मजबूत बनाते हैं हमारे रीति रिवाज

    रिश्तों का बंधन अटूट होता है किन्तु इनमें भी ताजगी बनाए रखने में कुछ परम्पराओं की अहम भूमिका होती है| भारत उत्सव प्रधान देश है| साथ ही रीति रिवाजो।।।।।।।।।। (रिवाजों )..............का भी देश है जो ढीले होते रिश्तों को पकड़ प्रदान करता है|

    उत्तर भारतीय परिवारों में बच्चे के जन्म के छह दिनों बाद छट्ठी(जन्मोत्सव);;;;;;;...........छटी ......... का रस्म मनाया जाता है|........हाँ!ऐसा मजा चखाऊँगा , छटी का दूध याद आजायेगा ......इस अंचल का मुहावरा भी है .

    हाथ-पैरों में लाल या काले धागे पहनाए जाते है|........हैं ...........

    अचानक सुगबुगाहट हुई कि बूआ आ गई|...........असल संबोधन "बुआ "है बेशक जोर की आवाज़ लगाने पर बू -आ .....हो जाएगा जैसे मंजु का मंजू हो जाता है .

    रस्मों रिवाज़ रिश्तों से ही जुड़े हैं यही तो उत्सव प्रियता है भारतीय मानस की .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया सर...दोनों शब्दों को ठीक कर दिया है|

      हटाएं
  15. आपको ये जानकार ख़ुशी होगी की एक सामूहिक ब्लॉग ''इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड ''शुरू हो चुका है.जिसमे हर हफ्ते भारतीय ब्लोगर्स ओर हिंदी ब्लोग्स का परिचय करवाया जायेगा.और भारतीय ब्लोग्स की साप्ताहिक चर्चा भी होगी.और साथ ही सभी ब्लॉग सदस्यों के ब्लोग्स का अपडेट्स भी होगा.ये सामूहिक ब्लॉग ज्यादा से ज्यादा हिंदी ब्लोग्स का प्रमोशन करेगा.आप भी इसका हिस्सा बने.और आज ही ज्वाइन करें.और इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड के सदस्य बने.

    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    उत्तर देंहटाएं
  16. बुआ से एक विशेष लगाव होता है बच्चों को और बुआ भी भतीजे-भतीजी पर जान छिड़कती हैं..सुंदर पोस्ट !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिलकुल सही कहा आपने ..
    बहुत ही सुन्दर पोस्ट।

    मेरी नई पोस्ट पर आमंत्रित करता हूँ
    http://rohitasghorela.blogspot.in/2012/10/blog-post_17.html

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!