गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

वोट भी देने चलो


वोट भी देने चलो...

मन्दिर जाते मस्जिद जाते
गिरजा और गुरुद्वारे जाते
सर्वधर्म का उत्सव है बन्धु
वोट भी देने चलो
देश अपना देश के हम
निज मत को आंको न कम
आलस मत करना रे बन्धु
वोट भी देने चलो
फलां नेता पसंद नहीं फलां है भ्रष्चाटारी
फलां लगे निकम्मा या फलां हो अहंकारी
चर्चा से कुछ ना होगा बंधु
वोट भी देने चलो
जो बोएँगे वही काटेंगे
अपनी मंशा जग को बाटेंगे
विवादों में न पड़ना बन्धु
वोट भी देने चलो
एक रुप्पैया से बनता है करोड़
एक रोटी ना मिले उठता है मरोड़
एक क्लिक अनमोल हमारा
वोट भी देने चलो
..............ऋता शेखर 'मधु'

8 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन दिखावे पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वोट देना कर्तव्य ...... इस का निर्वहन जरूर करें !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वोट दिया न, यह हमारा अधिकार ही नही कर्तव्य भी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अत्यंत सुन्दर .... हमने तो दे दिया

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!