शुक्रवार, 28 नवंबर 2014

सखी री..........

सखी री..........

भ्रमर ने गीत जब गाया
पपीहा प्रीत ले आया
शिखी के भी कदम थिरके
सखी री, फाग अब आया |
बजी जो धुन मनोहर सी
थिरक जाए यमुन जल भी
विकल हो गा रही राधा
सखी री मोहना आया|
कली चटखी गुलाबों की
जगे अरमान ख़्वाबों के
उड़ी खुशबू फ़िजाओं में
सखी ऋतुराज है आया|
गिरे थे शूल राहों में
खिले थे फूल बाहों में
ख़ता उसकी न तेरी थी
सखी बिखराव क्यूँ आया|
झुके से थे नयन उसके
रुके से थे कदम उसके
किया उसने इबादत भी
सखी री काम ना आया|
मिला जो वह बहारों में
लगा अपना हजारों में
जहाँ देखे वहाँ वो था
सखी ढूँढे नजारों में|
....ऋता शेखर 'मधु'

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (29-11-2014) को "अच्छे दिन कैसे होते हैं?" (चर्चा-1812) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या खूब लिखा है आपने ............आपके ब्लॉग पर पहली बार आया .........अच्छा लगा आपसे यहाँ मिलकर ! सधन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमें भी अच्छा लगा...सादर धन्यवाद !!

      हटाएं
  3. हर बार क्या तारीफ करूँ, मन ही मन प्रसन्न होती जाती हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति ,समय से पहले वसंत आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  5. झुके से थे नयन उसके
    रुके से थे कदम उसके
    किया उसने इबादत भी
    सखी री काम ना आया|
    मिला जो वह बहारों में
    लगा अपना हजारों में
    जहाँ देखे वहाँ वो था
    bahut khoob
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  6. हैल्थ बुलेटिन की आज की बुलेटिन स्वास्थ्य रहने के लिए हैल्थ टीप्स इसे अधिक से अधिक लोगों तक share kare ताकि लोगों को स्वास्थ्य की सही जानकारिया प्राप्त हो सकें।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!