मंगलवार, 30 अगस्त 2016

सोई आत्मा-लघुकथा

सोई आत्मा

एम्बुलेंस तेज हॉर्न बजाती अस्पताल के दरवाजे पर लग चुकी थी| स्ट्रेचर को भीतर ले जाने के लिए कर्मचारियों के दल के साथ डॉक्टर भी आया| डॉक्टर ने मरीज को आई सी यू में भरती किया और जाँच में लग गया| मरणासन्न मरीज ने तब तक अन्तिम साँस ली| डॉक्टर के कदम बाहर की ओर बढ़े|

“ डॉक्टर वाडेकर, आप कहाँ जा रहे हैं”, साथ वाले डॉक्टर ओबेरॉय ने पूछा|

“पेशेंट की डेथ हो चुकी है| बाहर उनकी फैमिली को बताने जा रहा हूँ|”

“नहीं, पेशेंट को ऑक्सीजन लगाइए, वेंटिलेटर पर रखिए, उसके शरीर में कुछ मशीन फिट कीजिए  ताकि लगे कि इलाज शुरु हो चुका है| मरीज को इस स्थिति में दो दिनों तक रखिए फिर डेथ डिक्लेयर कीजिए|”

“मगर क्यों?”

“जाने वाली की आत्मा सो चुकी है| उसके शरीर से हम जो कमा सकते हैं उसे कमा लेने में हर्ज क्या है|”

“आत्मा तो आपकी सो चुकी है डॉक्टर ओबेरॉय और मर गया है आपका जमीर|”

थोड़ी देर बाद डॉक्टर वाडेकर के हाथ में एक पन्ना फड़फड़ा रहा था|
“आई सी यू में त्वरित इलाज में अक्षमता के कारण आपको दूसरे विभाग में शिफ्ट किया जाता है|”
--ऋता शेखर ‘मधु’

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 'वीर कनाईलाल की शहादत और ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है...कृपया इससे वंचित न करें...आभार !!!